संवाद सहयोगी, खेकड़ा (बागपत): एनएचएआइ के सीजीएम व अन्य अधिकारियों ने बसी फाटक पर बन रहे ओवरब्रिज निर्माण कार्य का जायजा लेते हुए इंजीनियरों को हर हाल में 10 दिन के भीतर कार्य पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने बताया कि जहां आवश्यकता होगी, सर्विस रोड बनेगी, एक्सप्रेस-वे पर कोई भी दो या तीन पहिया वाहन नहीं चलेगा।

29 अप्रैल को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों करोड़ों की लागत से बनने वाले ईस्टर्न पैरीफेरल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन की तिथि लगभग तय हो चुकी है। मंगलवार को नेशनल हाइवे अथारिटी आफ इंडिया के सीजीएम बीएस ¨सगला के साथ अन्य अधिकारियों ने चल रहे कार्यों का जायजा लिया। यमुना पुल देखने के बाद टीम दिल्ली-सहारनपुर वाया शामली रेलमार्ग पर बन बसी फाटक मार्ग के पास बन रहे ओवरब्रिज पर पहुंचे। टीम ने निर्माण कंपनी के इंजीनियरों से वार्ता की। 10 दिन के भीतर निर्माण कार्य हर हाल में पूरा करने के निर्देश दिए। ¨सगला ने बताया कि एक्सप्रेस-वे किनारे उस स्थानों पर सर्विस रोड बनेगा, जहां आवश्यकता होगी। बताया कि अपनी सुविधा व खूबियों के चलते देश का पहला एक्सप्रेस-वे होगा। रफ्तार व सुरक्षा की दृष्टि से एक्सप्रेस-वे पर दो या तीन पहिया वाहनों को चलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। अधिकांश कामर्शियल वाहन की दौड़ सकेंगे। इसके बाद निर्माण का जायजा लेते हुए टीम गाजियाबाद की ओर निकल गई। एनएचएआइ के जीएम विपुल गुप्ता, पीडी एके जैन, इंजीनियर वशिष्ट पटेल आदि शामिल थे।

Posted By: Jagran