बागपत, जेएनएन। सीबीएसई बोर्ड की जिला समंवयक रचना जौहर ने बताया कि कोरोना महामारी से बचाव को लेकर इस सत्र में भी स्कूलों के खुलने की उम्मीद न के बराबर है। बोर्ड ने कक्षा 10 और 12 के पाठ्यक्रम को भी कम दिया है, लेकिन सीबीएसई इस बार कक्षा 10 और 12वीं की परीक्षाएं अवश्य कराएगा।

एक परीक्षा मार्च माह और दूसरी परीक्षा अक्टूबर माह में होगी। समय स्थिति को देखते हुए बोर्ड आनलाइन और आफ लाइन परीक्षाएं अवश्य कराएगा। इसलिए छात्र-छात्राएं घर पर रहते हुए आनलाइन, यू-ट्यूब और किताबों से पढ़ते रहे। तनाव को अपने पास न आने दे और रिलेक्स होते हुए पढ़ाई करते रहे। रचना जौहर ने बताया कि व्हाट्सएप और टेलीग्राम पर ग्रुप बनाकर छात्र और अध्यापक एक-दूसरे के साथ जुड़े रहे। इनके साथ ही स्टडी नोट्स, सिलेबर, एग्जाम की गाइडलाइंस, तैयारी करने के टिप्स आदि भी शेयर करते रहे। छात्रों को यदि कोई परेशानी हो रही है तो वह अध्यापकों से वीडियो काल कर अपनी परेशानी दूर सकते हैं। पढ़ाई को अपने ऊपर हावी न होने दे। कक्षा 12 के छात्रों को यह सलाह दी कि पढ़ाई के साथ-साथ वह कंपीटीशन की तैयारी भी करते रहे। सीबीएसई के चार स्कूलों का परीक्षा परिणाम रुका

जनपद में सीबीएसई के 57 स्कूलों में से चार स्कूलों का परीक्षा परिणाम घोषित नहीं हुआ है। इन स्कूलों में सेंट आरवी स्कूल, विजयी भव स्कूल, राममेहर विद्यालय स्कूल गांगनौली और जौहर स्कूल शामिल हैं। इन स्कूलों का परीक्षा परिणाम अब पांच अगस्त को घोषित किया जाएगा।

इसके पीछे की वजह यह रही है कि इन स्कूलों को कक्षा 12 की पहली बार मान्यता मिली है, इसलिए इन स्कूलों में कक्षा 12 का पहला सत्र था और परीक्षा में अंकों का आधार नहीं बन रहा था, इसलिए बोर्ड ने छात्र-छात्राओं के दोबारा अंक भेजने के लिए कहा है, ताकि छात्रों को परीक्षा परिणाम में नुकसान ने हो सके।

Edited By: Jagran