बागपत, जेएनएन। हाथ में लाठी, चेहरे पर मास्क व एनसीसी की यूनिफार्म। मोहम्मद आजाद इसी वेशभूषा में पीएनबी शाखा में कोरोना योद्धा की भूमिका निभाता है। न वह बैंक में सुरक्षा गार्ड है और न कर्मचारी लेकिन इसे फर्ज मानते हुए अपनी जिम्मेदारी पूरी कर रहा है। हर कोई उसके जज्बे को सलाम कर रहा है।

लॉकडाउन में लोग घरों के अंदर कैद हैं। बैंक में लेन-देन, राशन, दवा जैसे जरूरी काम से ही लोग बाहर निकल रहे हैं। कोरोना से बचाने के लिए पुलिस, स्वास्थ्य कर्मी व सफाईकर्मी आदि मुस्तैद हैं। अमीनगर सराय कस्बे के माता मोहल्ला निवासी मोहम्मद आजाद भी सेवाभाव से फर्ज निभा रहा है। नगर की पंजाब नेशनल बैंक की शाखा पर रोज सुबह नौ बजे वह एनसीसी की यूनिफार्म पहनकर पहुंच जाता है और लाइन में खड़े लोगों से शारीरिक दूरी का पालन करने का अनुरोध करता है। साथ ही मास्क लगाने को भी कहता है। बैंक के अंदर निरक्षर लोगों के जमा-निकासी फार्म भरने में भी उनकी मदद करता है। शाम को पांच बजे बैंक बंद होने पर घर लौटता है।

--------

मजदूर का बेटा है आजाद

माता मोहल्ले निवासी मजदूर खुर्शीद के पुत्र मोहम्मद आजाद ने वर्ष 2019 में मेरठ कालेज से स्नातक की थी। इसी दौरान एनसीसी का सर्टिफिकेट भी प्राप्त किया था। आजाद ने बताया कि लोगों को कोरोना से बचाने के लिए जागरूक करने का निर्णय लिया। एक अप्रैल से पीएनबी में ड्यूटी देते हुए लोगों को कोरोना से बचाने का प्रयास कर रहा हूं।

--------

पंजाब नेशनल बैंक के मैनेजर पीसी गौरव ने बताया कि आजाद संकट के समय में सराहनीय कार्य कर रहा है। वह बैंक में व्यवस्था बनाने में योगदान देता है। सभी बैंक कर्मचारी उससे स्नेह रखते हैं। बैंक के सुरक्षा गार्ड तेजवीर सिंह ने बताया कि पहले वह अकेले ही व्यवस्था करते थे। आजाद के आने से काफी मदद मिली है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस