बागपत, जेएनएन। कोरोना टीकाकरण का दायरा स्वास्थ्य केंद्रों पर न रहकर गांव-गांव तक पहुंच जाएगा। 10-12 गांवों का एक कलस्टर बनाकर टीकाकरण होगा। इस प्लान में 18 वर्ष से ऊपर के हर व्यक्ति को लाभ पहुंचाया जाएगा। आनलाइन पंजीकरण का झंझट नहीं रहेगा, मौके पर ही लाभार्थी का पंजीकरण होगा।

जिले के लोगों को अब कोरोना टीकाकरण कराने के लिए शहरी और गांवों के स्वास्थ्य केंद्रों पर लाइन में लगने की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब स्वास्थ्य विभाग गांव-गांव में जाकर कैंप लगाएगा। कलस्टर के गांवों में दो-तीन दिनों में टीकाकरण पूरा कर दूसरे कलस्टर में कैंप लगाएंगे। पहले तीन दिन गांवों में टीकाकरण कराने के लिए राशन डीलर से लेकर लेखपाल, प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक ग्राम प्रधान, आशा, आंगनबाड़ी, गाम सचिव, युवक-महिला मंगल दल जागरूकता अभियान चलेगा। उसके बाद स्वास्थ्य विभाग की कलस्टर की टीम टीकाकरण शुरू कर देगी। अभियान को शुरू करने से पहले पायलेट प्रोजेक्ट के तहत खेकड़ा और बिनौली ब्लाक का चयन किया गया है। गुरुवार से दोनों ब्लाकों के कलस्टर गांवों में जागरूकता अभियान तीन दिनों तक चलेगा और 21 जून से टीकाकरण होगा। एक जुलाई से पूरी तैयारियों से साथ टीकाकरण किया जाएगा।

---------

शहरी क्षेत्रों की मलिन बस्तियों में कलस्टर बनाकर टीकाकरण

शहरी क्षेत्र में हाइब्रिड माडल का प्रयोग अधिकाधिक किया जाएगा। लोगों को स्थिर वैक्सीनेशन केंद्र पर पंजीकरण कराकर टीका लगवाने के लिए प्रेरित करेंगे। मलिन बस्तियों में कलस्टर एप्रोच से टीकाकरण कराया जा सकेगा। वर्कप्लेस वैक्सीनेशन एवं नियर टू होम वैक्सीनेशन का भी इन क्षेत्रों में अधिकाधिक इस्तेमाल करेंगे।

--------

टीकाकरण स्थल पर ही होगा पंजीकरण

--जिस गांव की जितनी आबादी होगी, उसी हिसाब से वहां टीकाकरण प्लान निर्धारित किया जाएगा। कलस्टर के गांवों को दो-तीन दिन में संतृप्त होंगे। मौके पर ही लाभार्थी का पंजीकरण होगा। कैंप में 18 से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा।

---------

--शासन के निर्देश पर 10-12 गांवों का एक कलस्टर बनाकर माइक्रोप्लान तैयार किया गया। ट्रायल के लिए खेकड़ा और बिनौली ब्लाक का चयन किया गया है। ब्लाकों के गांवों में गुरुवार से जागरूकता अभियान चलेगा और 21 जून से टीकाकरण किया जाएगा। एक जुलाई से पूरे जिले में यह अभियान चलेगा।

डा. दीपा सिंह, एसीएमओ, जिला प्रतिरक्षण अधिकारी

Edited By: Jagran