बागपत, जेएनएन। तमेलागढ़ी गांव के मोजा पट्टी बंजारन के प्राथमिक विद्यालय में एक साल से ज्यादा समय से हैंडपंप खराब है। बच्चे पानी पीने के लिए गांव में जाते हैं।

तमेलागढ़ी गांव का मोजा पट्टी बंजारन गांव के प्राथमिक विद्यालय में तीन अध्यापक और 150 बच्चे हैं। स्कूल की दुर्दशा का दंश बच्चों को झेलना पड़ रहा है। स्कूल की चारदीवारी टूटी हुई है, जिसके कारण आए दिन जंगल से सांप, नेवला, बिज्जू आदि जीव स्कूल परिसर में घुस आते हैं। एक साल से ज्यादा समय से हैंडपंप खराब है। बच्चों को पानी पीने के लिए गांव से बाहर जाना पड़ता है। रसोइया शबाना व गुलिस्ता ने बताया वह भी 300 मीटर दूर से पानी लेकर आती है। पानी के बिना शौचालय का प्रयोग भी नहीं होता है, जिससे बच्चे शौच आदि खुले में जाते हैं। स्कूल प्रधानाध्यापक दीपक कुमार ने बताया कि समस्या के संबंध में प्रधान एवं अधिकारियों को अवगत कराया है। बीईओ रंजन गुप्ता ने बताया कि स्कूल की कायाकल्प की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत की है। बीडीओ को पत्र दिया जा चुका है। पेयजल संबंधी समस्या का समाधान कराया जाएगा। खेतों में तिरछे खड़े हैं विद्युत पोल

चौगामा क्षेत्र में तीन माह पूर्व आये तूफान में उखड़े विद्युत लाइन के पोल अभी तक भी सीधे नहीं कराये गए हैं। जबकि तिरछे खड़े विद्युत लाइन के पोल दुर्घटना को निमंत्रण दे रहे हैं।

तीन माह पूर्व आये तूफान के कारण चौगामा क्षेत्र में जगह-जगह विद्युत लाइन के पोल टूटकर गिर गए थे या फिर तिरछे होकर गिरने के कगार पर खड़े हुए है। बोपुरा गाव के पास दाहा बोपुरा मार्ग के किनारे, सरौरा तमेलागढ़ी मार्ग के किनारे तथा मेरठ करनाल राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे अभी भी दर्जनों पोल ऐसे खड़े हुए हैं जो कभी भी गिर सकते है। लेकिन ऊर्जा निगम की लापरवाही ले कारण ये पोल सीधे नही कराए गए है। खेतों में तिरछे खड़े ये विद्युत पोल एक दो नहीं दर्जनों से अधिक संख्या में खड़े है। ऐसा नहीं होगा कि ऊर्जा निगम ले अधिकारियों की नजर इन विद्युत पोल पर न पड़ पाई हो। जबकि किसान इसकी शिकायत बराबर करते रहते है।

Edited By: Jagran