बागपत : ग्राम निरोजपुर गुर्जर में गलघोंटू से बच्चे की मौत के बाद से पिछले पांच दिन से स्वास्थ्य विभाग की टीम कैंप किए हुए है। बुधवार को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने गांव में लगाए शिविर में 78 रोगियों की जांच की। सभी मरीजों को दवा दी गई। सीएमएस प्रभारी डा. विभाष राजपूत ने बताया कि गांव में बुखार, खांसी व खुजली से पीड़ित मरीजों को दवा दी जा रही है। आज दस मरीजों के रक्त के नमूने जांच को लिए गए है। पिछले चार दिनों में लिए 52 मरीजों के रक्त के नमूने जांच में नकारात्मक निकले है। गांव में अधिकांश घरों में रह रहे परिवार के सदस्यों की जांच की जा चुकी है। ग्रामीणों को साफ सफाई से रहने की सलाह दी जा रही है। साथ ही मच्छर जनित रोगों से बचाव की जानकारी दी जा रही है।

महिला मरीज के परिजनों ने किया हंगामा

बागपत : बुधवार को नगर की सीएचसी पर बड़ौत निवासी महिला मरीज रोशन पत्नी अजीत पहुंची। महिला के पेट में दर्द था। महिला के परिजनों ने बताया कि सीएचसी में कोई चिकित्सक नहीं मिलने पर मरीज को इमरजेंसी में ले गए। आरोप है कि वहां पर उन्हें कोई नहीं मिला। इस पर परिजनों ने हंगामा किया। परिजन महिला मरीज को मेरठ ले गए। उधर सीएचसी प्रभारी डा. विभाष राजपूत ने बताया कि इमरजेंसी में स्टाफ 24 घंटे तैनात रहता है। महिला मरीज के परिजनों ने वहां पर उपचार कराने से इंकार कर दिया था।

Posted By: Jagran