बागपत, जेएनएन: ककड़ीपुर से बड़ौत शहर तक पूर्वी यमुना नहर की पटरी का निर्माण लगभग आठ माह पहले सिचाई विभाग के माध्यम से कराया गया था। इसकी लंबाई लगभग 16 किमी थी, जिसमें तकरीबन 49 लाख रुपये की लागत आई थी। निर्माण के एक माह बाद ही रोड़ी उखड़कर सड़क पर फैल गई है। इससे कई स्थानों पर तो वाहनों का चलना भी दूभर हो गया है।

छपरौली विधायक सहेंद्र सिंह ने सड़क के निरीक्षण में निर्माण की गुणवत्ता खराब पाई थी। उन्होंने सिचाई विभाग के अधिशासी अभियंता को बुलाकर सड़क की हालत दिखाई थी और ठेकेदार से दोबारा निर्माण के लिए कहा था। विधायक ने मुख्यमंत्री से सात जुलाई 2019 को बात भी की थी, जिसके बाद विशेष कार्याधिकारी, मुख्यमंत्री कार्यालय आरएन सिंह ने 20 अगस्त-2019 को पत्र लिखकर अपर मुख्य सचिव व प्रमुख सचिव सिचाई, जल संसाधन को आदेश दिए थे कि 21 सितंबर-2019 तक शिकायत की जांच कराने के बाद कार्यवाही की जाए, लेकिन अभी तक जांच शुरू नहीं हुई है। विधायक ने बताया कि दोबारा शिकायत कर जांच कराई जाएगी।

सिचाई विभाग के अधिशासी अभियंता संजीव चौधरी ने बताया कि पटरी के निर्माण की जल्द ही विभागीय जांच कराई जाएगी। यदि कहीं कमी रह गई है तो ठेकेदार से मरम्मत कराई जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप