रमाला: इब्राहिमपुर माजरा गांव में हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर खेत मे लगे कंटीले तार पर गिर गया। भू स्वामी का बेटा खेत में गया तो तार हटाते समय खुद करंट की चपेट में आ गया, जिससे उसकी दर्दनाक मौत हो गई। ग्रामीणों ने ऊर्जा निगम पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए हंगामा किया। ग्रामीणों ने पांच लाख का मुआवजा दिलाने का आश्वासन मिलने के बाद शव को उठने दिया।

अंकुर तोमर ने बताया कि उनके खेत के चारों ओर कंटीले तार लगे हुए हैं। खेत में ही नलकूप भी है। वहां पर हाईटेंशन लाइन का तार टूटकर कंटीले तार पर पड़ा था, जिसमें करंट दौड़ रहा था। मंगलवार सुबह दस बजे उसका छोटा भाई सुमित (18) खेत पर गया और अंदर जाने के लिए कंटीला तार हटाने लगा, तभी करंट के तेज झटके ने उसकी जान ले ली। अपने खेतों में जा रहे किसानों ने सुमित के शव को पड़ा देखा तो उसके घर खबर दी। इससे उसके घर में कोहराम मच गया। ऊर्जा निगम के दफ्तर को जानकारी देकर विद्युत आपूर्ति बंद कराई गई।

खबर देने के लगभग तीन घंटे बाद एसडीओ ऋतेश्वर बंधु मौके पर पहुंचे और पांच लाख रुपये का मुआवजा और संबंधित कर्मचारी के खिलाफ जांच कर कार्रवाई का आश्वासन दिया, तब ग्रामीण माने।

इंस्पेक्टर नरेश कुमार ने बताया कि सुमित के चाचा र¨वद्र की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। एक ही खेत में मरे बेटा, पिता और बाबा

रमाला: इब्राहिम माजरा गांव के प्रधान हरपाल ने बताया कि सुमित, उसके पिता संजय और बाबा महिपाल की मौत खेत में ही हुई। 18 साल पहले संजय खेत में नलकूप पर काम करा रहा था। वह नलकूप में गिरकर घायल हो गया। बाद में उसकी मौत हो गई। पांच साल पहले महिपाल खेत में फसल की ¨सचाई करने गये थे। खेत में जंगली जानवरों से बचाव को तार लगे थे, जिनमें कंरट दौड़ रहा था। वह जैसे ही खेत में पहुंचे तो तार की चपेट में आ जाने से उनकी मौत हो गई। अब सुमित की भी खेत में ही तार में करंट से मौत हो गई। चाचा ने दर्ज कराया मुकदमा

र¨वद्र ने मुकदमा दर्ज कराया कि वह अपने भतीजे सुमित के साथ खेत में गया तो बिजली का तार टूटा पड़ा था। वहां से वह बिजलीघर गए और इसकी जानकारी राजीव एसएसओ को दी। उन्होंने विद्युत लाइन बंद कर लाइनमैन को मौके पर भेजने की बात कही। काफी देर बाद भी विद्युत आपूर्ति बंद नहीं की गई। उसके बाद वह खेत में पहुंचे तो सुमित ने विद्युत लाइन को हटाने का प्रयास किया, जिसके बाद उसकी करंट की चपेट में आने से मौत हो गई। यूपी पुलिस की दी थी परीक्षा

परिजनों ने बताया कि सुमित ने कुछ दिनों पहले ही सुमित ने यूपी पुलिस की परीक्षा दी थी, जिसके बाद उसका फिजिकल होने वाला था, लेकिन उससे पहले ही उसकी मौत हो गई। उधर, मौके पर भाजपा जिलाध्यक्ष वेदपाल उपाध्याय, विकास माजरा, अमित तोमर, सर्वेश चेयरमैन आदि पहुंचे और पुलिस से कार्रवाई की मांग की।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप