बागपत, जेएनएन। नौ सितंबर को तुगाना गांव स्थित सिडिकेट बैंक शाखा में 15 लाख रुपये लूटने वालों के सहयोगी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस का दावा है कि आरोपित ने लूट की घटना से पहले बैंक की रेकी की थी। आरोपित के पास से लूट के 17,120 रुपये व नोटों की गड्डी की पर्ची बरामद की गई है। तीन मुख्य आरोपित फरार हैं।

एसपी प्रताप गोपेंद्र ने बताया कि रमाला पुलिस ने मंगलवार को कासिमपुर खेड़ी रेलवे स्टेशन के पास से आरोपित अरविद उर्फ डाबर पुत्र जगवीर निवासी सूप गांव को गिरफ्तार किया है। आरोपित के कब्जे से बैंक लूट के 17,120 रुपये, तुगाना सिडिकेट बैक की नोटों की गड्डी पर लगने वाली पर्ची, तमंचा व दो कारतूस बरामद किए हैं। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि नौ सितंबर 2019 को दोपहर पौने दो बजे तुगाना गांव स्थित सिडिकेंट बैंक शाखा से तीन नकाबपोश बदमाशों ने तमंचे के बल पर लगभग 15 लाख रुपये व सीसीटीवी कैमरों का डीवीआर लूट लिया था।

अरविद ने तुगाना सिंडिकेट बैंक लूट की योजना अपने तीन साथियों के साथ मिलकर अपने ही गांव के एक साथी के घर बैठकर बनाई थी। उसे बैंक व आसपास की रेकी का काम मिला था। उसने नौ सितंबर को तुगाना बैंक शाखा की रेकी की थी और पुलिस के जाने के बाद अपने साथियों को बुला लिया था। उसके बाद ही तीन बदमाशों ने बैंक लूटा था। 15 लाख रुपये में से अरविद को हिस्से 50 हजार रुपये (500 रुपये के नोटों की एक गड्डी) दिये गये थे। अरविद के पास से 17,120 रुपये, नोटों की गड्डी पर लगी बैंक की पर्ची व तमंचा बरामद हुआ। अन्य रुपये उसने खर्च कर दिए। एसपी का कहना है कि दूसरे मुख्य आरोपितों की तलाश की जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप