बागपत, जेएनएन। बेमौसम बारिश से केवल धान उत्पादक नहीं बल्कि सब्जी उत्पादक किसानों को मोटा नुकसान हुआ है। बारिश में बोया गया आलू, गाजर और गोभी का बीज खराब होने से करोड़ों का नुकसान का अनुमान है। खराब हुआ आलू बीज

बागपत में 250 हेक्टेयर पर आलू की खेती होती है। 100 हेक्टेयर पर आलू की बुआई हो चुकी थी लेकिन, बारिश में बह गई जिससे 50 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। बुआई पर प्रति हेक्टेयर 50 हजार रुपये का खर्च आता है। गोभी में नुकसान

बागपत में 600 हेक्टेयर पर गोभी की बुआई हो चुकी थी, लेकिन बारिश होने से खराब हो गई जिससे 1.80

करोड़ रुपये का नुकसान का अनुमान है। गाजर पर प्रति हेक्टेयर 30 हजार रुपये खर्च आता है। लाल नहीं हुई गाजर

बागपत में 600 हेक्टेयर पर गाजर की खेती होती है। गाजर की बुआई हुई थी, लेकिन बारिश से गाजर बुआई खराब हो गई जिससे करीब तीन करोड़ रुपये का नुकसान है। गाजर पर प्रति हेक्टेयर 50 हजार रुपये खर्च आता है। --------------------

महंगा आलू का बीज लेकर बुआई की थी, लेकिन बुआई होते ही बारिश हो गई जिससे बीज सड़ने लगा है।

सरकार आलू उत्पादक किसानों को भी मुआवजा दें।

-किसान रणवीर सिंह यादव

--------

बारिश में गाजर की बुआई बह गई। अब नये सिरे से गाजर की बुआई करनी पड़ेगी, लेकिन अगेती गाजर को जो दाम मिलता है वह नहीं मिलेगा।

-किसान सतीश चौहान

---------

आलू, गाजर और गोभी की जो फसल बुआई की गई थी वह बारिश में खराब हो गई है। अब किसानों को फिर से बुआई करनी पड़ेगी

-दिनेश कुमार अरुण, जिला उद्यान अधिकारी

Edited By: Jagran