बागपत, जेएनएन। डीपीआरओ पर मंत्री तथा अधिकारियों के नाम पर अवैध वसूली का आरोप लगाने वाले पंचायत सचिवों ने धरने के 16वें दिन सफाई कर्मियों के साथ जुलूस निकालकर कलक्ट्रेट व विकास भवन में प्रदर्शन किया।

डीपीआरओ के खिलाफ नारेबाजी कर कलक्ट्रेट का चक्कर लगाने के बाद पंचायत सचिवों तथा सफाई कर्मियों का जुलूस वापस विकास भवन पहुंचकर यहां विभिन्न कार्यालयों के सामने प्रदर्शन कर विभिन्न विभागों के कर्मियों से डीपीआरओ के खिलाफ सहयोग मांगा।

जुलूस के बाद फिर धरना शुरू हो गया। रालोद जिलाध्यक्ष डा. जगपाल सिंह व रालोद महिला प्रकोष्ठ की जिलाध्यक्ष रेनू तोमर ने कहा कि भ्रष्टाचार चरम पर है। भ्रष्ट डीपीआरओ के खिलाफ कार्रवाई नहीं होना कई सवाल खड़ा करता है। राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष श्याम बाबू वाल्मीकी पंचायत सचिवों के समर्थन में खूब गरजे।

ग्राम विकास अधिकारी-ग्राम पंचायत अधिकारी समन्वय समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार तथा प्रेम कुमार ने कहा कि जब तक डीपीआरओ तथा वरिष्ठ सहायक के खिलाफ कार्रवाई नहीं होगी तब तक धरना जारी रहेगा। कई प्रधान धरने में शामिल रहे। कृष्ण कुमार तोमर, सुधीर रुहेला,सुनील बंसल, आदि मौजूद रहे। अनशनकारियों की हालत खराब

अनशन के 10वें दिन पंचायत सचिव जौनी चौधरी और विकुल तोमर की हालत खराब है। उन्होंने कहा

कि डीपीआरओ पर कार्रवाई के बाद ही अनशन खत्म करेंगे। आज निकल सकता है हल

-ग्राम विकास अधिकारी-ग्राम पंचायत अधिकारी समन्वय समिति के अध्यक्ष प्रमोद कुमार ने बताया कि पंचायत सचिवों का प्रतिनिधि मंडल बुधवार शाम बड़ौत में भाजपा विधायक केपी मलिक के साथ वार्ता हुई। पंचायत सचिवों ने डीपीआरओ के खिलाफ अपने आरोप दोहराते हुए उनपर कार्रवाई कराने की मांग

की। तय हुआ कि गुरुवार की सुबह 11 बजे डीएम से वार्ता कर आंदोलन खत्म कराने का रास्ता निकाला जाएगा। वहीं कई कर्मियों को कहते सुना कि धरना खत्म कराने को डीपीआरओ कार्यालय के एक कर्मी को निलंबित किए जा सकते हैं।

Edited By: Jagran