बागपत, जेएनएन। अधिवक्ता जाहिद चौधरी की हत्या के केस का राजफाश न होने के विरोध में अधिवक्ताओं ने बुधवार को दिल्ली-यमुनोत्री हाईवे जाम कर डीएम व एसपी के खिलाफ नारेबाजी की। उनकी सीओ ओमपाल सिंह से नोकझोंक हुई। बाद में एडीएम व एएसपी के आश्वासन पर करीब 45 मिनट बाद जाम खुला।

यह है मामला

पलड़ा गांव निवासी अधिवक्ता जाहिद चौधरी की गत 30 सितंबर को कचहरी से घर लौटते समय गोली मारकर हत्या कर दी थी। परिजनों ने दोघट थाने पर अज्ञात में मुकदमा दर्ज कराया था। लगातार मांग करने के बाद भी पुलिस अफसरों ने केस का राजफाश नहीं किया। इसके विरोध में जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष बिजेंद्र सिंह तोमर के नेतृत्व में अधिवक्ताओं ने बुधवार दोपहर हाईवे को कलक्ट्रेट के पास जाम कर दिया और रोड पर ही बैठ गए थे। उन्होंने डीएम और एसपी के खिलाफ खूब नारेबाजी की। जानकारी मिलने पर सीओ ओमपाल सिंह मौके पर पहुंचे। उनकी अधिवक्ताओं ने नोकझोंक हुई। बाद में एडीएम अमित कुमार और एएसपी अनिल सिंह सिसौदिया मौके पर पहुंचे। अधिवक्ताओं ने एएसपी से केस का राजफाश करने और दोघट एसओ को सस्पेंड करने की मांग की। एएसपी ने शाम तक हत्यारोपितों को पकड़ने का आश्वासन दिया। बार अध्यक्ष ने चेतावनी दी कि पुलिस ने यदि गुरुवार सुबह तक केस का राजफाश नहीं किया तो 11 बजे दोबारा हाईवे जाम कर दिया जाएगा, इसकी जिम्मेदार पुलिस होगी।

एंबुलेंस भी फंसी जाम में

जाम के कारण हाईवे के दोनों और वाहनों की लंबी लाइन लग गई थी। एंबुलेंस, बंदी वाहन तक जाम में फंसे रहे। यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा। 

Posted By: Taruna Tayal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप