बागपत: स्वास्थ्य विभाग ने एक दुकानदार से कांट्रेक्ट नहीं होने के बाद भी उससे 31 लाख रुपये के सामान की खरीद दिखाकर खाते में टीडीएस भेज दिया। आयकर विभाग में वार्षिक रिटर्न दाखिल करने गए दुकानदार को जब यह पता चला, तो वह सीएमओ आफिस पहुंचा। यहां पर कर्मचारियों ने उसे लापरवाही से ऐसा होना बताया। अब इस मामले की जांच होने पर ही पता चलेगा कि स्वास्थ्य विभाग में 31 लाख रुपये का खेल हुआ है या लापरवाही से ऐसा हो गया।

नगर निवासी वीरेन्द्र कुमार की बड़ौत रोड पर श्रीराम इंटरप्राइजेज नाम से बैट्री व इनवर्टर की दुकान है। वीरेन्द्र कुमार मंगलवार को सीएमओ आफिस पहुंचे और एकाउंटेंट विक्रम कुमार से शिकायत की। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले वह इस साल की वार्षिक इनकम रिटर्न भरने आयकर विभाग में गए थे। वहां पता चला कि उनकी फर्म द्वारा स्वास्थ्य विभाग को 24 अप्रैल 2017 से 31 मार्च 2018 तक 31 लाख पांच हजार 81 रुपये का सामान बेचा गया। इसकी एवज में स्वास्थ्य विभाग ने उनके पैन एकाउंट में 62 हजार 102 रुपये का टीडीएस भेजा है। वीरेन्द्र ने बताया कि उनकी फर्म से स्वास्थ्य विभाग का कोई कांट्रेक्ट नहीं हुआ है। इसके बाद भी उनकी फर्म से इतनी बढ़ी रकम की खरीद दिखा दी गई। वीरेन्द्र कुमार ने मामले की गंभीरता से जांच कराने की मांग की।

एकाउंटेंट ने बताया कि वीरेन्द्र कुमार की फर्म श्रीराम इंटरप्राइजेज ने वर्ष 2016 में जिला स्वास्थ्य समिति के माध्यम से बैट्रा व यूपीएस दिए थे। इस साल मेरठ की श्रीराम इंटरप्राइजेज से जिला स्वास्थ्य समिति ने सामान खरीदा है। गलती से वीरेन्द्र कुमार की फर्म के पैन नंबर में इस साल के सामान खरीद का टीडीएस चला गया है। उधर सीएमओ डा. सुषमा चंद्रा ने कहा कि विभाग के कर्मचारियों की गलती से ऐसा हुआ है। मामले की जांच कराई जाएगी और गलती को दुरुस्त कराया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस