जागरण संवाददाता, बदायूं : रुहेलखंड का मिनी कुंभ मेला ककोड़ा की तैयारियों लगभग 80 फीसदी पूरी हो चुकी हैं। मेला प्रशासन ने तैयारियों का जायजा लेकर टेंट, सिरकी, बिजली, पानी, मजदूरों और सफाई कर्मियों को मेले की व्यवस्थाओं को समय पर पूरा करने के निर्देश दिए। इस बीच कादरचौक से मेला के लिए जाने वाले मुख्य मार्ग पर मौजूद गड्ढे दूर न होने से प्रशासनिक व्यवस्था पर सवाल उठने लगा है। मेले के उद्घाटन में अब महज तीन दिन बचे हैं। ऐसे में व्यवस्थाएं दुरुस्त कराने के लिए मेला प्रशासन वहां पर डटा हुआ है। बड़ी संख्या में आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को देखते हुए मेले की तैयारियों में सतर्कता बरती जा रही है। रेत की सफेद चादर पर बस रहा तंबुओं का शहर आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। सभी सरकारी कार्यालय बनाए जा चुके हैं, तो वीआइपी कॉलोनी से लेकर मीना बाजार भी तैयार हो चुका है। कादरचौक होते हुए मेला स्थल तक पहुंचने वाले हाईवे को अभी दुरुस्त नहीं किया गया है। नगला के पास मुख्य मार्ग खाईनुमा गड्डों में तब्दील हो गया है, जबकि आलाधिकारी रोज उसी रोड से मेला स्थल तक आते और जाते हैं। सुतिया पुल सीधे गंगा तट को जाने वाला मार्ग भी अभी दुरुस्त नहीं कराया गया है। मेले में ऊंचे-नीचे स्थानों को ट्रेक्टरों से समतल कराया जा रहा है। पश्चिम से मेला ककोड़़ा तक पहुंचने वाले मार्ग को चौड़ा बनाया गया है। रोड पर पराली डालकर दुरूस्त भी कर दिया गया है। मुख्य मार्ग और मेले के पूर्वी-पश्चिमी मार्गाें से श्रद्धालुओं के वाहन मेले के नजदीक पहुंच सकेंगे। श्रद्धालुओं को धूल से बचाने के लिए मेला प्रशासन की ओर से मुख्य मार्गों पर पानी के टैंकरों से छिड़काव कराया जा रहा है। प्रदेश भर के विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले श्रद्धालुओं को जगह कर दी गई है। इंसेट ..

गंगा घाट पर ही गहराई ज्यादा

इस बार गंगा तट पर ही जहां मुख्य स्नान होगा वहां की गहराई ज्यादा बताई जा रही है। गंगा तट पर कुछ स्थान काफी गहरे हैं। मेले के आसपास के गांवों में रहने वाले ग्रामीणों ने बताया कि गंगा के तेज बहाव, कटान और गहराई को देखते हुए गंगा स्नान को आने वाले श्रद्धालुओं को सावधानी बरतने की जरूरत है। झंडी पूजन होते ही सभी स्थानों पर तैनात हो जाएगा फोर्स

मेला प्रभारी राजीव कुमार शर्मा ने बताया कि श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर मेले में बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात रहेगा। मंडल भर से पुलिस फोर्स को यहां लगाया गया है तो घाट पर फ्लड पीएसी तैनात रहेगी। महिला श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए बड़ी संख्या में महिला पुलिस तैनात रहेगी। झंडी पूजन होते ही फोर्स अपने-अपने स्थान पर तैनात हो जाएगा। उन्होंने बताया कि मुख्य रूप से आगरा के टेंट से तंबुओं का शहर बसाया जा रहा है। पांच नवंबर को सुबह होगा यज्ञ

पांच को सुबह होगा यज्ञ ककोड़ देवी मंदिर के महंत धर्मगिरी महाराज ने बताया कि पांच नवंबर को सुबह ही यज्ञ होगा। इसके बाद वेदमंत्रोच्चारण कर झंडी का पूजन के बाद मेला ककोड़ा गंगा तट के मुख्य स्थान पर झंडी को स्थापित किया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस