बदायूं, जेएनएन : भाई-बहन के अटूट प्रेम का पर्व रक्षाबंधन जिलेभर में उल्लास के साथ मनाया गया। बहनों ने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर रक्षा का वचन लिया। वहीं भाइयों ने उपहार देकर उन्हें भरोसा दिलाया कि जीवन भर वह रिश्ता निभाते रहेंगे। कहीं राखी बांधने बहनें मायके पहुंचीं तो कहीं भाइयों ने बहन के घर जाकर राखी बंधवाई। ट्रेनों और बसों में भारी भीड़ रही, लेकिन सभी में उल्लास दिखाई दिया। सरकारी बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सुविधा दी गई। हालांकि प्राइवेट बसों में छूट नहीं थी, इसलिए महिलाओं से कंडक्टर की नोकझोंक भी होती रही।

स्वतंत्रता दिवस के दिन रक्षाबंधन होने से दोहरा उल्लास था। घरों में सुबह से ही जश्न जैसा माहौल रहा। पहले बच्चे स्कूल में ध्वजारोहण कार्यक्रम में शामिल हुए, उनके वापस आने पर बहनों ने मायके का रूख किया। कहीं भाई-बहन तो कहीं भाभी-ननद के साथ हंसी ठिठोली होती रही। भाइयों ने दिल खोलकर बहनों को उपहार भी दिए। मेहमानों के आवागमन देर शाम तक बने रहे। तरह-तरह के पकवान भी बनाए गए। शहर में सोत नदी के किनारे रक्षाबंधन पर मेले का आयोजन किया गया। नदी के किनारे रक्षाबंधन से जुड़ी रस्म निभाई गई। मिठाई की दुकानों पर सुबह से लेकर दोपहर बाद तक भीड़ दिखाई पड़ी। बसों में सुबह से लेकर शाम तक भीड़ रही। खासकर रोडवेज बसों में महिलाओं की यात्रा मुफ्त होने के कारण बस आते ही भर जा रही थी। ट्रेनों में भी खासी भीड़ दिखाई पड़ी। शुक्रवार को भी मायके से बहनों के लौटने का सिलसिला जारी रहा। कल तो इनका टिकट नहीं लगा, लेकिन आज रोडवेज बसों में भी किराया देकर यात्रा करनी पड़ी। त्योहार पर शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए प्रमुख चौराहों पर पुलिस तैनात रही।

दीर्घायु की कामना की : रक्षाबंधन का त्योहार पर बहनों ने भाइयों की कलाई में राखी बांधकर दीर्घायु की कामना की। भाइयों ने बहनों के लिए रक्षा का वचन दिया। यातायात की अव्यवस्था के बीच बहने भाइयों के राखी बांधने पहुंचीं। बस स्टैंड पर बसों के न होने से डग्गामार वाहनों और टेपों वालों ने मनमाना किराया वसूला। नगर में मिलावटी मिठाई भी खूब बिकती रही।

दुकानों पर रही भीड़ : रक्षाबंधन के त्योहार के मौके पर कस्बा में बहनों ने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर उनकी लंबी उम्र की कामना की। मिठाई की दुकानों पर लोगों की काफी भीड़ रही। बसों की कमी की वजह से बहनों को परेशानी का सामना करना पड़ा। त्योहार पर दूध की किल्लत बनी रही।

जाम जैसे रहे हालात : रक्षाबंधन का पर्व कस्बा सहित ग्रामीण अंचलों में बड़े हर्षाेल्लास के साथ मनाया गया। साथ कस्बे में बहनों ने भाइयों की कलाई पर राखी बांधकर अपनी रक्षा का वचन लिया। कस्बे में सड़कों पर काफी तादाद में भीड़भाड़ रही। साथ ही बदायूं-बिजनौर हाईवे पर दिनभर खरीदारी करने के वाली महिलाओं की भीड़ के कारण जाम जैसे हालात पैदा हो गए।

बहनों ने भी दिया वचन : भाई-बहन का अटूट बंधन का पर्व रक्षा बंधन कस्बे सहित ग्रामीण क्षेत्रों में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। बहनों ने भाईयों की कलाई पर राखी बांधी तो भाईयों ने भी बहनों के लिए साथ निभाने का वचन दिया। सुबह से ही हलवाईयों की दूकानों पर भीड़ रही। बहनों ने मिठाई, नमकीन, चॉकलेट, विस्किट, फलों की जमकर खरीदारी की। वाहनों की कमी रही जिससे महिलाओं को परेशानी उठानी पड़ी।

लिया रक्षा का वचन : भाई-बहन के अटूट स्नेह का पर्व रक्षाबंधन खूब धूमधाम से मनाया गया। भाईयों की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधकर बहनों ने जहां लंबी आयु की कामना की तो भाईयों ने रोली का तिलक लगाकर रक्षा का वचन दिया। सड़कों पर वाहनों की खूब रेलमपेल रही। राखी का त्योहार शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न हुआ।

झेलनी पड़ी परेशानी : संसू, सिलहरी : बहनों ने राखी बांधकर भाइयों से रक्षा का वचन लिया। यातायात की सुविधा सुधा के चलते सुनहरी गांव का बस स्टॉप ना होने के कारण बसें नहीं रुकीं, जिससे क्षेत्र में दूर दराज से आई बहनों को परेशानी झेलनी पड़ी। सिलहरी, बावट, मोंगर, बरातेगदार, गुरूपुरी विनायक, दहेमी, बल्लिया, भगवतीपुर, भरकुइयां, आमगांव, बिनावर, मूसाझाग, लखनपुर समेत सभी गांवों में त्योहार मनाया गया। नगर तथा ग्रामीण क्षेत्रों में रक्षाबंधन धूमधाम से मनाया गया। गांव दुगरैया, हसनपुर, बनगढ़, सिगोई, युसुफनगर आदि में रक्षाबंधन धूमधाम से मनाया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस