बदायूं : प्राथमिक विद्यालयों में हुई शिक्षकों की समायोजन प्रक्रिया स्थगित कर दी गई है। अधिवक्ता हरि प्रताप ¨सह राठौर की आइजीआरएस की शिकायत पर बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव ने यह जानकारी दी है। जानकारी मिलने के बाद उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ के पदाधिकारियों में हर्ष है। नियम विरूद्ध समायोजन की बात कहते हुए प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी के समक्ष हंगामा किया था।

परिषदीय विद्यालयो में छात्र-शिक्षक अनुपात सही करने को शासन ने समायोजन का निर्देश दिया। सरप्लस शिक्षक-शिक्षिकाओं को उसी विकास क्षेत्र के अन्य विद्यालय में भेजने को कहा गया। विकास क्षेत्र के विद्यालय में जगह न होने पर अन्य विकास क्षेत्र के विद्यालय में समायोजन करने को कहा गया, लेकिन बेसिक शिक्षा विभाग ने प्रधानाध्यापकों का समायोजन किया, एक वर्ष के भीतर सेवानिवृत्त होने वाले शिक्षकों के अलावा तीन शिक्षकों को उसी विद्यालय में समायोजित किया गया। शिक्षक संघ के विकास क्षेत्र जगत के ब्लॉक अध्यक्ष संजीव शर्मा ने अन्य पदाधिकारियों समेत इसका विरोध किया था, लेकिन बाद भी विभाग ने 108 शिक्षक-शिक्षिकाओं का समायोजन करके निर्देश जारी कर दिए। अधिवक्ता ने अपनी शिकायत में समायोजन को पूरी तरह दोषपूर्ण बताया। जिसपर सचिव ने आख्या दी है कि समायोजन प्रक्रिया की कार्यवाही उच्च न्यायालय में योजित विभिन्न याचिकाओं में पारित आदेश के क्रम में स्थगित है। --समायोजन प्रक्रिया स्थगित होने की जानकारी नहीं है। उच्चाधिकारियों की ओर से कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुआ है। निर्देश प्राप्त होने के बाद ही आगे की कार्रवाई होगी।

- राम मूरत, प्रभारी बीएसए

Posted By: Jagran