- अदालत ने चार को किया दोषमुक्त

- 12 हजार रुपये जुर्माने की भी सजा जागरण संवाददाता, बदायूं : हत्या के मामले में जिला एवं सत्र न्यायाधीश रमेश चंद्र ने पांच आरोपितों में से एक पर दोष सिद्ध होने पर आजीवन कारावास समेत 12 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई। जबकि शेष चार अन्य को आरोप से बरी कर दिया। अभियोजन पक्ष के अनुसार थाना मूसाझाग क्षेत्र के गांव काजीखेड़ा निवासी अलवेले पुत्र हाकिम सिंह ने 24 जनवरी 2018 को थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। अवगत कराया कि गांव के काशीराम पुत्र जवाहर, साधू पुत्र जवाहर, शीलेंद्र पुत्र जवाहर, जवाहर पुत्र द्वारिका, लज्जाराम पुत्र जवाहर आपस में लड़ रहे थे। अलवेले का पुत्र अíपत भी मौके पर खड़ा था। उपरोक्त लोगों ने अíपत को जान से मारने की नियत से तमंचे से गोली मार दी। उसकी मौके पर ही मौत हो गई। गोली लज्जाराम ने दागी थी। न्यायालय में काशीराम, साधू, शीलेंद्र, लज्जाराम पुत्रगण जवाहर, जवाहर पुत्र द्वारिका निवासीगण ग्राम काजीखेड़ा थाना मूसाझाग पर एकराय होकर अíपत की हत्या करने के आरोप का मुकदमा चलाया गया। जिला एवं सत्र न्यायाधीश रमेश चंद्र ने पत्रावली पर साक्ष्य का अवलोकन किया। एडीजीसी अनिल कुमार सिंह राठौर व बचाव पक्ष की दलीलों को सुनने के पश्चात उक्त आरोप में लज्जाराम को दोषी पाते हुए आजीवन कारावास समेत 12 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है जबकि शीलेंद्र, साधू, जवाहर व काशीराम को उक्त आरोप से बरी कर दिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस