बदायूं : ट्रेन का पता करने, लंबी लाइन में लग कर टिकट लेने में कई बार आपकी गाड़ी ही या तो छूट जाती है या प्लेटफार्म पर दौड़कर पकड़नी पड़ती है। यह दिक्कत, लाइन में लगने का झंझट अब खत्म होगा। सामान्य श्रेणी के यात्रियों के लिए रेलवे ने यूटीएस (अनरिजर्वड टिक¨टग सिस्टम) एप लांच किया है। घर बैठे ही एप से टिकट बुक करें और स्टेशन पहुंचकर सीधे ट्रेन में बैठें।

एप से पेपरलेस टिकट व्यवस्था

जनरल कोच में यात्रा करने वाले लंबी दूरी या दैनिक यात्रियों को टिकट के लिए लंबी लाइन में लगना पड़ता है। रेलवे ने तकनीक के जरिए टिकट खिड़की पर लगने वाली लंबी लाइन को छोटा करने और पेपरलेस टिकट व्यवस्था शुरू की है। बिना कागज के टिकट के ही ऑनलाइन भुगतान कर मोबाइल पर गंतव्य का टिकट बुक होगा। ऐसे काम करेगा एप

यह एप एंड्राएड मोबाइल पर डाउनलोड किया जा सकता है। उपयोगकर्ता को अपने नाम, ई-मेल, मोबाइल नंबर, उम्र का विवरण भरकर आइडी बनानी होगी। इसके बाद टिकट बुक कर सकते हैं। टिकट के लिए अतिरिक्त शुल्क नहीं देना पड़ेगा। इसमें डेबिट, क्रेडिट कार्ड के साथ ही पेटीएम जरिए भी भुगतान किया जा सकता है।

मैसेज से यात्रा, न्यूनतम पांच किमी जरूरी

एप से न्यूनतम पांच किलोमीटर की दूरी का ही टिकट बुक होगा। ताकि, बिना टिकट पकड़े जाने पर यात्री स्टेशन पर ही तुरंत टिकट न बना सकें। एप से बने टिकट का मैसेज मोबाइल नंबर पर पहुंचेगा। यही मैसेज टिकट का काम करेगा। एमएसटी नवीनीकरण की सुविधा भी एप में दी गई है।

रोजाना 2700 टिकट बिक्री

बदायूं रेलवे स्टेशन से बरेली और कासगंज के लिए ट्रेन संचालित होती हैं। रोजाना लगभग 2700 टिकट स्टेशन के काउंटर से बिकते हैं। वहीं, 392 यात्री एमएसटी धारक हैं। एप से खिड़की पर यात्रियों की भीड़ कम होगी। वर्जन ::

एप लांच हो चुका है। इससे यात्रियों को काफी सुविधा होगी। समय और अनावश्यक दिक्कतों से बच सकेंगे। ट्रेनों की जानकारी पहले से ही ऑनलाइन रहती है।

- पारस प्रवीन, स्टेशन मास्टर

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस