बदायूं : बुधवार को सुबह से भीषण गर्मी थी। बैसाख की दोपहरी में आसमान से आग बरस रही थी। जो सड़क पर निकले, आग बदन झुलसा रही थी, लेकिन शाम को आसमां से ही ओले गिरे। आंधी-पानी और ओले एक साथ पड़े तो जहां आमजन को राहत मिली, वहीं किसानों की चिंता भी बढ़ गई। वहीं, म्याऊं समेत ग्रामीण क्षेत्रों में कई जगह पेड़ और पोल गिरने से आवागमन बाधित हुआ और विद्युत सप्लाई ठप हो गई। इसके साथ ही मौसम का मिजाज बदलने से गेहूं की कटाई और मढ़ाई का काम भी ठप हो गया है।

बुधवार को सुबह सूरज निकलने से पहले आसमान में हल्के बादल दिखाई दिए। लग रहा था कि मौसम में कुछ बदलाव आएगा, लेकिन कुछ ही देर में बादल गायब हो गए और चटख धूप निकल आई। जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, गर्मी बढ़ती गई। पूर्वाह्न 11 बजे के बाद ही धूप इतनी तेज हो गई कि सड़क पर चलना मुश्किल हो रहा था। रोडवेज, प्राइवेट बस स्टैंड समेत बाजारों में भी लोग इधर-उधर ठंडा पानी की तलाश करते दिखाई दिए। दोपहर 12 बजे से तीन बजे तक सड़कों पर सन्नाटा दिखाई दिया। बड़े वाहनों का आवागमन जरूर बना रहा। शाम करीब पौने छह बजे धूल भरी आंधी चलने लगी। देखते ही देखते बादल गरजने लगे और बारिश शुरू हो गई। कई जगह आंधी में पेड़ और पोल भी गिर गए हैं। गेहूं की कटाई और मढ़ाई का काम तेजी से चल रहा था, लेकिन आंधी-बारिश से पूरी तरह ठप हो गया है। जिले का अधिकतम तापमान 41 डिग्री और न्यूनतम 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

संसू, सिलहरी/मूसाझाग : शाम के वक्त आंधी-तूफान से क्षेत्र में कई जगह पेड़ गिर गए हैं। इसकी वजह से यातायात लगभग एक घंटा के लिए बंद रहा। तेज बारिश के साथ ओले भी पड़े हैं। जिन किसानों का गेहूं खेत में कटा पड़ा है उनके माथे पर पसीना आ गया। गेहूं की कटाई और मढ़ाई का काम भी पूरी तरह ठप हो गया है। आंधी-पानी से गिरे कई पेड़, बिजली गुल फोटो 01 बीडीएन संसू, म्याऊं : बुधवार शाम के वक्त आंधी-बारिश से गर्मी से फौरी तौर पर तो राहत मिल गई, लेकिन कई जगह पेड़ और पोल गिर जाने से विद्युत आपूर्ति ठप हो गई है। अच्छी बारिश होने से खेतों में पानी भर गया है। एमएफ हाईवे पर कस्बा सखानू में पेड़ गिरने से विद्युत पोल भी गिर गया। इसकी वजह से सड़क पर आवागमन ठप हो गया। सड़कों में पेड़ के टूट कर गिर जाने से सड़कों में गाड़ियां फंस गईं, लेकिन बारिश समाप्त होते ही ग्रामीणों ने लकड़ी को सड़क से किनारे किया और लकड़ी काट कर घर ले गए। प्री मानसून कहें या बिन मौसम बरसात। इतना जरूर है कि बेतहाशा गर्मी से लोगों को राहत दी है।

----------------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस