बदायूं : सालारपुर ब्लॉक क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवासीय योजना के तहत हो रही अवैध वसूली की शिकायतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। ब्लॉक के कर्मचारियों पर आए दिन आरोप लग रहे हैं तो अब बाबट के प्रधान पर भी अवैध वसूली का गंभीर आरोप लगा है। पीड़ित लाभार्थी ने 20 हजार वसूलने के बाद पांच हजार रुपये और मांगने की शिकायत शासन को भेजी तो वहां से कार्रवाई के आदेश करते हुए जांच पीडी डीआरडीए को सौंपी गई है।

गांव बाबट की रहने वाली गीता देवी पत्नी आर्येद्र ¨सह ने आइजीआरएस पर शिकायत दर्ज कराने के साथ ही मुख्यमंत्री को पत्र भेजते हुए अवैध वसूली का आरोप लगाया।शिकायत में बताया गया कि वह बेहद गरीब है और आवास पाने की हकदार है। पात्रता सूची में उसका नाम दर्ज होने की वजह से उसको प्रधानमंत्री आवासीय योजना का लाभ दिया गया। पहली किश्त के रूप में उसको चालीस हजार की धनराशि भेजी गई तो वह अपना पक्का आवास बनवाने के लिए वह रुपये निकालने को बैंक में पहुंची। जहां बैंक में रुपये निकालते ही गांव के प्रधान ने उससे दस हजार रुपये की मांग की। महिला ने विरोध किया तो प्रधान ने कहा कि वह अगली किश्त नहीं आने देगा। इस डर की वजह से उसने दस हजार रुपये दे दिए। दूसरी किश्त पर भी उससे दस हजार रुपये वसूले गए। अब पांच हजार रुपये की और मांग की जा रही है। पीड़िता ने बताया कि उसकी बैंक पासबुक भी प्रधान नहीं दे रहा है। शिकायत पर शासन स्तर से जांच बैठी है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप