सैदपुर : नगर में तालाब की भूमि पर अवैध कब्जा कर निर्माण कराने वालों में मंगलवार को उस समय खलबली मच गई जबकि प्रशासन की टीम जेसीबी लेकर अतिक्रमण हटवाने पहुंच गई। कई दिन पहले ही लाल निशान लगा दिए गए थे। हाईकोर्ट में दायर जनहित याचिका पर अतिक्रमण हटवाकर दो नवंबर तक रिपोर्ट तलब की गई है। इसलिए प्रशासन भी सख्ती बरत रहा है।

तहसीलदार अरुण कुमार, अधिशासी अधिकारी राजीव कुमार, हल्का लेखपाल मंजुल कुमार, कानूगगो रामनिवास फोर्स के जेसीबी लेकर वार्ड 4 व 8 में स्थित तालाब डूपकटा व हाजी सय्यद तालाबों से अतिक्रमण हटवाने पहुंच गए। जहां चिह्नित किए गए 13 लोगों का अवैध कब्जा मिला। जेसीबी चलाकर कब्जे हटवाए गए तो बाकी लोग खुद ही अतिक्रमण तोड़ने लगे। इसी दौरान इस दौरान श्याम लाल की बेटी काजल ईंट लगने से घायल हो गई। आनन-फानन में उसे अस्पताल ले जाकर मरहम पट्टी कराई गई। अवैध कब्जे को लेकर तीन वर्ष पहले 2017 में कस्बा के अब्दुल मजीद ने सरकारी जमीन से कब्जे हटवाने की पहल कर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी। 31 मई 2017 को हाईकोर्ट ने तालाब समेत अन्य सरकारी जमीन से कब्जा हटवाने का आदेश दिया था। अफसरों ने जांच कराकर रिपोर्ट बनवाई, लेकिन, कार्रवाई नहीं हुई। पिछले महीने सितंबर में अब्दुल मजीद ने इस मामले में कार्रवाई न होते देख हाईकोर्ट में अवमानना याचिका दायर की। इस पर हाईकोर्ट ने जिलाधिकारी कुमार प्रशांत से आगामी दो नवंबर तक कार्रवाई की रिपोर्ट तलब की है। अधिशासी अधिकारी राजीव कुमार ने बताया चिह्नित 13 लोगों के मकानों से अवैध कब्जा हटवाया गया है साथ ही चेतावनी दी गई है किसी प्रकार का कब्जा मिला तो कार्रवाई की जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस