मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बदायूं : प्रधानी के चुनाव में धोखाधड़ी कर पत्नी को प्रधान निर्वाचित कराने वाले तीन पत्नियों वाले प्रधानपति और प्रधान के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। कोर्ट के आदेश पर मूसाझाग थाने में रिपोर्ट दर्ज हुई है। मामला समरेर ब्लॉक क्षेत्र के गांव सिमरिया का है। ठाकुर विजेंद्र पाल सिंह पर आरोप लगाते हुए ग्राम पंचायत के मजरा सकतपुर निवासी मोती ने न्यायालय में परिवाद दायर किया। आरोप लगाया कि विजेंद्र पाल सिंह तीन महिलाओं से शादी कर रखी है। जिस आरक्षण में प्रधानी का चुनाव होता है उसी में फर्जी प्रमाण पत्र बनवाकर प्रधानी का चुनाव जीत लेता है। वर्तमान में गांव के विजेंद्र पाल सिंह की तीन पत्नियां है। पहली का नाम राज कुमारी दूसरी का नाम नीलम, तीसरी का नाम निशा है। निशा का जाति प्रमाण पत्र अनुसूचित जाति का फर्जी बनवाकर प्रधानी का चुनाव जीत लिया। जब मोती को विजेंद्र पाल सिंह की पत्नी निशा का फर्जी अनुसूचित जाति का प्रमाण पत्र होने की जानकारी हुई तो मोती ने तत्कालीन एसडीएम दातागंज से शिकायत की तो एसडीएम दातागंज की जांच की गई तो जांच में भी उक्त प्रमाण पत्र फर्जी पाया गया था। कार्यवाही न होने पर उन्होंने न्यायालय की शरण ली। कोर्ट के आदेश पर प्रधान निशा और उनके पति विजेंद्र पाल सिंह के खिलाफ धारा 420, 467, 468, 471 के तहत मूसाझाग थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप