जागरण संवाददाता, बदायूं : बरेली-कासगंज रेलमार्ग पर पहली बार इलेक्ट्रिक इंजन दौड़ेगा। यह ऐतिहासिक क्षण 27 फरवरी को आएगा। कासगंज से बदायूं के बितरोई तक लोको ट्रायल की प्रक्रिया होने को है और रेलवे ने इसकी पूरी तैयारी कर ली है। इधर, बुधवार यानी आज से 25 हजार केवीए क्षमता वाली इलेक्ट्रिक लाइन पर चार्जिंग शुरू कर दी जाएगी।

आखिरकार वह दिन आ ही गया, जिसका जिले के लोगों को एक अरसे से इंतजार था। कासगंज से बितरोई तक इलेक्ट्रिक लाइन का काम पूरा होने के साथ ही बुधवार से कासगंज के टीएसएस (टैक्शन सब स्टेशन) से बितरोई तक की लाइन को करंट देना शुरू कर दिया जाएगा। 19 से 26 फरवरी तक सात दिन लाइन चार्जिग का काम होगा। जबकि इसके बाद 27 फरवरी को कासगंज से लोको ट्रायल के लिए इलेक्ट्रिक इंजन बदायूं को रवाना होगा। यह इंजन सोरों, कछला ब्रिज होता हुआ बदायूं की सीमा में प्रवेश करते हुए उझानी के पास स्थित बितरोई स्टेशन तक आएगा। कुछ देर यहां ठहरने के बाद बिजली चलित इंजन वापस कासगंज को लौट जाएगा। लाइन चोरी की घटेगी टेंशन

- बितरोई तक लाइन चार्जिंग शुरू होने से इस हिस्से की लाइन चोरी की घटनाएं स्वत: थम जाएंगी। अभी तक जिले में इलेक्ट्रिक लाइन चोरों ने आतंक मचा रखा था। यहां तक कि गोरखपुर से सीआइबी की टीम को भी निगरानी के लिए यहां पहुंचना पड़ा है। इस प्रक्रिया के शुरू होने के बाद सीआइबी समेत आरपीएफ की आधी टेंशन कम हो जाएगी। इंसेट

फिर बनेगी आगे की रणनीति

- यह ट्रायल सफल होने के बाद बितरोई से बदायूं और बभियाना तक ट्रायल की रणनीति आरवीएनएल (रेल विकास निगम लिमिटेड) बनाएगा। हालांकि इस ट्रायल पर फिलहाल अधिकारी पूरा फोकस किए हुए हैं।

वर्जन ::

लाइन चार्जिंग की प्रक्रिया 26 फरवरी तक होगी। इसमें कोई दिक्कत न आने पर हम 27 फरवरी को लोको ट्रायल कराएंगे। हालांकि ट्रायल का वक्त अभी तय नहीं हो सका है लेकिन कासगंज से लेकर बदायूं के लोगों का यह पहला अनुभव होगा।

- जीएन मिश्रा, प्रबंधक आरवीएनएल, लखनऊ

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस