बदायूं, जेएनएन : कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में जिलाधिकारी कुमार प्रशांत ने विकासखंड अधिकारियों, एडीओ पंचायत एवं एमओआइसी के साथ मलेरिया से बचाव एवं शौचालय के निर्माण की समीक्षा बैठक की। उन्होंने कहा कि प्रभावित क्षेत्रों में एंटी लार्वा का छिड़काव एवं फॉगिग कराएं। गत वर्ष जो लोग मलेरिया पॉजिटिव मिले थे, उन सभी की सैंपलिग कराएं। संदिग्ध व्यक्तियों की स्लाइड से सीएचसी एवं पीएचसी पर व कैंप लगाकर जांच कराई जाए।

डीएम ने कहा कि जिन सीएचसी एवं पीएचसी पर जांच लंबित हैं, वहां से सैंपल जिला अस्पताल भेजें। चिकित्सक कोई केस न छिपाएं। पता चलते ही अधिकारियों को तुरंत बताएं। गांव में आशा सुनिश्चित करें कि जो पीएफ या पीवी के पॉजिटिव मरीज हैं, उनको अपने समक्ष दवा खिलाएं। सामुदायिक एवं व्यक्तिगत शौचालय के निर्माण में लापरवाही व देरी के लिए सचिव, एडीओ पंचायत एवं ग्राम प्रधान जिम्मेदार हैं। एक सप्ताह में कार्य में सुधार नहीं हुआ तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। सचिव और एडीओ पंचायत पर विभागीय कार्रवाई एवं ग्राम प्रधान की पॉवर सी•ा कर दी जाएगी। जिन लाभार्थियों की प्रथम एवं द्वितीय किश्त चली गई है और शौचालय निर्माण नहीं हुआ है तो एडीओ पंचायत के खाते से इसकी भरपाई की जाए। युद्ध स्तर पर शौचालय निर्माण किया जाए। कोटेदार एवं ग्राम प्रधान निराश्रित गोवंश के लिए भूसा दान करें। गोशाला में मनरेगा से वर्मी कम्पोस्ट का कार्य कराया जाए। जिन हैंडपंपों का पानी मुख्य नालियों में नहीं जाता है, वहां मनरेगा से सोकपिट बनवाया जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस