बदायूं, जेएनएन : सत्ता की हनक में भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक भारतीय के भाई रेडीमेड गार्मेंट्स व्यापारी दीपक गुप्ता सीओ सिटी चंद्रपाल सिंह से भिड़ गए। कोरोना क‌र्फ्यू में खुली दुकान को बंद कराने पर उन्होंने सीओ सिटी से बदसलूकी की। इंटरनेट मीडिया पर सीओ सिटी से अभद्रता का वीडियो वायरल हुआ। इस पर पुलिस आरोपित को कोतवाली ले गई। आरोपित दुकानदार के खिलाफ महामारी अधिनियम में केस दर्ज कर सत्ता के दबाव में सशर्त जमानत पर छोड़ दिया। इससे पुलिस की किरकिरी हो रही है।

शहर के बड़ा बाजार में दीपक गुप्ता की ज्योति गारमेंट्स की दुकान है। वह भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक भारतीय के छोटे भाई हैं। शुक्रवार को सिटी मजिस्ट्रेट अमित कुमार और सीओ सिटी चंद्रपाल सिंह ईद और कोरोना क‌र्फ्यू का जायजा लेने निकले। दोनों अफसरों को बड़ा बाजार में दीपक की दुकान का आधा शटर खुला मिला। अफसरों के निर्देश पर पुलिस ने शटर खुलवाया तो अंदर ग्राहक थे। सीओ सिटी ने दुकानदार दीपक गुप्ता को ग्राहकों को बाहर निकालने को कहा। इस पर वह गुस्सा गए और स्वयं को भाजपा पार्टी का पदाधिकारी बताकर उन पर रौंब गांठने लगे। सीओ सिटी के समझाने पर वह पुलिस पर ही आरोप लगाकर बहस करने लगे। अभद्रता पर सीओ सिटी ने उन्हें कोतवाली ले जाने के निर्देश दिए। पुलिस के पकड़ने के लिए पहुंचने पर वह सीओ सिटी के साथ बदसलूकी करते हुए हाथापाई पर उतारू हो गए। इस पर पुलिस ने उन्हें मौके पर ही दबोच कर जीप में डाल किया। पुलिस आरोपित को पकड़कर कोतवाली ले गई। भाजपा जिला अध्यक्ष के भाई को कोतवाली पुलिस ले जाने की बात शहर में फैली तो सियासी माहौल गरमा गया। पुलिस अफसरों के फोन बजने लगे। आखिरकार पुलिस ने सत्ता के दबाव में आकर आरोपित के खिलाफ सिर्फ महामारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्जकर उसे कोतवाली से रिहा कर दिया है। सदर कोतवाल डीएस धामा ने बताया कि आरोपित दुकान के खिलाफ महामारी अधिनियम में केस दर्जकर उसे कोतवाली से ही सशर्त जमानत दे दी है। बदसलूकी के दौरान वह वहां नहीं थे। इससे सीओ सिटी के साथ क्या हुआ है, इसकी जानकारी नहीं है।

कोरोना क‌र्फ्यू का कई दिनों से हो रहा था उल्लंघन

भाजपा जिलाध्यक्ष के भाई कई दिनों से कोरोना क‌र्फ्यू का उल्लंघन कर रहे थे। वह एसएसपी के निरीक्षण में भाजपा जिलाध्यक्ष व आरोपित दीपक गुप्ता का भाई दुकान खोले मिला था। एसएसपी के निर्देश पर उसे गिरफ्तार किया गया था। लेकिन, बाद में उसे कोतवाली से छोड़ दिया था। होमगार्ड को थप्पड़ मारने पर चर्चा में आए थे जिलाध्यक्ष

भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक भारतीय भी तीन वर्ष पूर्व सदर कोतवाली में पैरवी में गए थे। वहां किसी बात पर उन्होंने होमगार्ड के थप्पड़ जड़ दिया था। तब जिलाध्यक्ष पर मुकदमा भी दर्ज हुआ था, लेकिन बाद में सत्ता के दबाव में मामले को रफा दफा कर दिया था। वर्जन ::

बाजार में हुए विवाद की जानकारी मिली है। कोरोना क‌र्फ्यू का पुलिस को सख्ती से एक समान रूप से पालन कराना चाहिए। सभी के साथ समान व्यवहार करना चाहिए। गत दिनों एक जनाजे में हजारों की भीड़ उमड़ी थी तब पुलिस ने अज्ञात में मुकदमा दर्ज किया, जबकि कई चेहरे चर्चित थे।

- अशोक भारतीय, जिलाध्यक्ष भाजपा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप