बदायूं, जागरण संवाददाता। महिला चिकित्सक की बेटी के अपहरण मामले में अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व सदस्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज हुई थी। इसके बाद उनकी ओर से कई साक्ष्य सार्वजनिक किए गए। इस मामले से जुड़े कई सीसीटीवी फुटेज और युवती का एक वीडियो भी इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित हो रहा है। 

इधर, पुलिस ने विवेचना शुरू करते हुए युवती के मां के बयान दर्ज किए। साथ ही युवती को चिकित्सकीय परीक्षण के लिए भेजा गया। इसके बाद देर शाम सीजेएम कोर्ट में युवती के बयान दर्ज किए गए। उसने क्या बयान दिए इसकी जानकारी शुक्रवार को ही हो सकेगी। इसके आधार पर ही पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी। 

यह है पूरा मामला

बीते बुधवार को सिविल लाइंस थाना क्षेत्र के लोड़ा बहेड़ी गांव में रहने वाली महिला चिकित्सक सुमन गुप्ता ने अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व सदस्य एवं भाजपा नेता मनोज मसीह, उनकी पत्नी अनीता, बेटा ऋषभ व यश के खिलाफ बेटी जयश्री को अगवा कर ले जाने, मारपीट करने समेत अन्य धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराई थी। 

महिला चिकित्सक की ओर से मनोज मसीह के खिलाफ मतांतरण कराने जैसे अन्य कई गंभीर आरोप भी लगाए गए थे, लेकिन यह मामला एक दिन बाद ही पूरा पलटा नजर आ रहा है। मनोज मसीह ने प्राथमिकी दर्ज होने के बाद खुद सामने आकर ऐसी किसी घटना से इनकार किया था। 

इसके बाद उनके द्वारा घर के सीसीटीवी फुटेज की वीडियो भी प्रसारित की गई। 17 सितंबर की रात नौ बजे करीब इस फुटेज में महिला चिकित्सक की बेटी खुद भागते हुए आती दिख रही है जो सीधे मनोज मसीह के घर में घुस गई थी। 

इसके अलावा, दूसरे वीडियो में दिख रहा कि महिला पुलिसकर्मी के अलावा बड़ी संख्या में पुलिस बल मनोज मसीह के घर मौजूद हैं और चिकित्सक की बेटी जयश्री के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। इसमें जयश्री अपनी मां के खिलाफ बोल रही है। 

युवती के बयान के बाद होगी आगे की कार्रवाई

वहीं दूसरी ओर प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने विवेचना शुरू कर दी है। गुरुवार को विवेचक उपनिरीक्षक प्रभात कुमार ने वादी सुमन गुप्ता के बयान दर्ज किए। देर शाम युवती के 164 के बयान कोर्ट में दर्ज कराए गए। एसपी सिटी अमित किशोर श्रीवास्तव ने बताया कि युवती ने क्या बयान दिए इसकी जानकारी शुक्रवार को ही मिल सकेगी। इसके बाद ही युवती को लेकर आगे का निर्णय लिया जाएगा।

Edited By: Shivam Yadav