बदायूं, जागरण संवाददाता। Badaun News : जिला महिला अस्पताल (District Women Hospital) की ओपीडी के बाल रोग विभाग के बाहर महिलाएं आने बच्चे को दिखाने के लिए पर्चे जमा कराने में जुटी थी। तभी पहले अपने बच्चे को दिखाने को लेकर दो महिलाओं में आपस में विवाद हो गया।

विवाद इतना बढ़ा कि दोनों में मारपीट शुरू हो गई। देखते-देखते आधा दर्जन महिलाओं के बीच लात घूसे चलने लगे। जिन्हे स्टाफ ने शांत कराते हुए अलग अलग कर दिया।

सोमवार को जिला महिला अस्पताल की ओपीडी (OPD) में उपचार को लेकर महिलाओं के बीच विवाद खड़ा हो गया। बाल रोग विशेषज्ञ कक्ष के बाहर आधा दर्जन महिलाएं आपस में भिड़ गई। ओपीडी में सोमवार को केवल एक ही बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संदीप कुमार बैठे थे उनके कक्ष के बाहर करीब 200 बच्चे उपचार के लिए परिजनों के साथ लाइन लगाए थे।

सुबह से लाइन में खड़े खड़े बच्चे और महिलाएं परेशान हो गई इसी दौरान महिला मरीज अपने बच्चे को पहले दिखाने को लेकर आपस में ही भिड़ गई। पहले काफी देर तक नोकझोंक हुई और फिर नौबत मारपीट पर आ गई। जब महिलाओं के बीच लात घूंसे चले तो आधा दर्जन महिलाएं एक-दूसरे को पीटने लगे और चीख पुकार मच गई।

महिलाओं की चीख पुकार और मारपीट देखकर ओपीडी का तमाम स्टॉफ दौड़ पड़ा। जैसे तैसे बचाया। तब तक गेट पर तैनात महिला व पुरुष होमगार्ड आ गए और ओपीडी के झगड़े को जैसे-तैसे निपटाया गया। पता चला कि महिलाएं अपना अपना परिचय पहले जमा करना चाहती थी।

जिससे उनको पहले उपचार मिल जाए और इंतजार में खड़े खड़े परेशान हो चुकी थी। इधर बाल रोग विशेषज्ञ डॉक्टर संदीप कुमार का कहना है कि बच्चों की संख्या बहुत ज्यादा है सुबह से वह बच्चों को उपचार लिख रहे हैं अकेले ओपीडी में होने की वजह से भीड़ को निपटाने में समय लग रहा है इसलिए लोग खड़े खड़े परेशान हो गए थे और आपस में भिड़ गए फिलहाल सभी को समझा दिया गया है। 

Edited By: Ravi Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट