बदायूं : बड़े सरकार का तीन रोजा उर्स ए पाक बड़े ही शान ओ शौकत और अदब ओ एहतराम के साथ मनाया जा रहा है। जुमेरात को दरगाह पर पहुंचे रोजदार जायरीनों को सहरी कराई गई। बाद नमाज ए फजर कुरआन ख्वाहनी हुई। उलेमा ए कराम ने नात ओ मनकबत का नजराना पेश किया। सला तो सलाम पढ़ा गया। मुल्क में अमन चैन और तरक्की के साथ जायरीनों के हक में दुआ की गई। इसके बाद दिनभर चादरपोशी और गुलपोशी का सिलसिला जारी रहा। कव्वालों ने बड़े सरकार की शान में शानदार कलाम पेश किए। जुमे को कुल शरीफ के साथ ही उर्स ए पाक रुखसत हो जाएगा।

छोटे सरकार के उर्स ए पाक के बाद बड़े सरकार के उर्स ए पाक मे अकीदत की बयार बह रही है। जिले भर से अकीदतमंद यहां हाजिरी पेश करने के लिए उमड़ रहे हैं। वहीं बाहरी जिलों से भी अकदीतमंदों ने पहुंचकर सरकार से मुहब्बत बयां की है। जुमेरात को दरगाह पर अकीदत और मुहब्बत का खुशनुमा माहौल रहा। अकीदतमंदों ने दरगाह पर चादरपोशी, गुलपोशी की। गुलाब के फूलों की चादर चढ़ाई। वहीं दरगाह के पीरजी और शहर के अन्य लोग जायरीनों की खिदतम में जुटे रहे। लंगर का आयोजन हुआ। दिन में कव्वालियों की भी महफिलें सजती रहीं। जुमे को कुल शरीफ होगा। इसके साथ बड़े सरकार का उर्स ए पाक रुखसत हो जाएगा। दरगाह के पीरज की जानिब से सरकार के उर्स कुल शरीफ में शामिल होने की इल्तिजा की गई है।