जागरण संवाददाता, बदायूं : शहर में वेंडरों को रोजगार दिलाने के लिए शासन ने अब हदस हजार रुपये ऋण देने की योजना तैयार की है। इनका लाभ पहले से पंजीकृत 1396 वेंडरों को मिलेगा। उनसे इसके लिए आवेदन मांगे है। इससे वह अपना यह ऋण लेकर अपना रोजगार शुरू कर सके।

ठेला, खोमचा वालों को एक ही स्थान आरक्षित करने के लिए वेंडर जोन योजना लागू की गई थी। नगर पालिका परिषद के प्रभारी ईओ सिटी मजिस्ट्रेट अमित कुमार ने कोरोना काल से पहले ही ठेला, खोमचा वालों को वेंडर जोन में रखने के लिए सर्वे कराया था। इसमें 1396 लोगों को पंजीकृत किया गया। शहर में भले ही यह योजना परवान नहीं चढ़ सकी हो, लेकिन अब केंद्र सरकार की ओर से आम आदमी के लिए जो राहत पैकेज मंजूर किया गया है उसमें वेंडरों को रोजगार बढ़ाने के लिए दस-दस हजार रुपये का ऋण दिया जा रहा है। नगर पालिका में सिर्फ आधार कार्ड जमा करने पर उनको 24 घंटे के अंदर मामूली ब्याज पर लोन दिया जाएगा। इसके लिए वह दो साल में उस ऋण को अदा कर सकते हैं। सरकार की मंशा है कि इस धनराशि से वेंडर अपना कारोबार बढ़ाएंगे तो आर्थिक स्थिति भी उनकी मजबूत होगी। सात प्रतिशत ब्याज की दर केंद्र सरकार की ओर से दी जाएगी। वर्जन ..

वेंडरों को दस हजार रुपये सरकार की ओर से ऋण दिया जा रहा है। इसमें सभी ठेला, खोमचा वाले शामिल हैं जो नगर पालिका में रजिस्टर्ड हैं। मामूली कागजी कार्रवाई के बाद रोजगार बढ़ाने के लिए उनको ऋण देने की तैयारी पूरी कर ली गई है।

- अमित कुमार, प्रभारी ईओ

------------------------------------

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस