जासं, आजमगढ़ : रेलवे के ई-टिकट के काले कारोबार पर अंकुश लगाने के लिए सोमवार को गोरखपुर से आई विजिलेंस टीम ने आरपीएफ के साथ मिलकर सिधारी स्थित श्रेया कंप्यूटर जोन ट्रेवल एजेंसी पर छापेमारी कर तत्काल ई-टिकट के काले कारोबार में लिप्त दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से लगभग 64 हजार रुपये के ई-टिकट, एक लैपटाप, प्रिटर के साथ ही दो बैंकों के डेबिट व क्रेडिट कार्ड भी बरामद किया।

दीपावली व छठ के मद्देनजर रेलवे प्रशासन काफी सतर्कता बरत रहा है। त्योहारों को देखते हुए गोरखपुर से आई विजिलेंस टीम ने आरपीएफ प्रभारी राशिद बेग मिर्जा के साथ सिधारी स्थित श्रेया कंप्यूटर पर छापेमारी की। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक हाइडिल सिधारी बाजार स्थित दुकान पर छापा मारकर अवैध साफ्टवेयर (एएनएमएस)  का इस्तेमाल कर कुल 32 पर्सनल यूजर आइडी से तत्काल टिकटों की कालाबाजारी पकड़ी गई।

इस दौरान दो ई-टिकट काले कारोबारी टीम के हत्थे चढ़ गए। इसके पास से इस्तेमाल 32 टिकट के अलावा तीन टिकट 21 अक्टूबर का बरामद हुआ। पूर्व में यात्रा किए गए टिकटों की कीमत लगभग 51 हजार 957 रुपये और तीन टिकटों की कीमत लगभग 10 हजार 173 रुपये थी। दलालों पर शिकंजा कसने के लिए गोरखपुर विजलेंस टीम पूर्वाह्न 11 बजे स्टेशन पर पहुंची। इस दौरान स्टेशन परिसर में स्थित आरक्षण केंद्र के एक-एक काउंटरों का भी निरीक्षण किया। टीम ने क्लर्को से भी पूछताछ की। टीम के स्टेशन पर पहुंचते ही टिकट दलालों में हड़कंप की स्थिति रही। पकड़े गए लोगों में हाइडिल चौराहा निवासी चंद्रजीत चौहान व सरायमीर निवासी विरेंद्र विक्रम शामिल हैं। यह लोग काफी दिनों से ई-टिकट के काले कारोबार में लिप्त थे। टीम में रमन सिंह, शेखर कुमार, एसपी चंद, राजीव श्रीवास्तव, श्रवण कुमार यादव, अरविद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप