जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : अवैध रूप से पर्सनल यूजर आइडी से ई-टिकट बनाकर कारोबार करने वाले दो युवक सोमवार को आरपीएफ के हत्थे चढ़ गए। छापेमारी के दौरान सुपर जनसेवा केंद्र से 13 ई-टिकट बरामद हुए, जिसकी कीमत 6888 रुपये है। रेलवे सुरक्षा बल टिकट बनाने में प्रयुक्त होने वाले उपकरण कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर आजमगढ़ आरपीएफ प्रभारी रमेश कुमार मीणा, औड़िहार के प्रभारी नरेश कुमार मीणा व सीआइबी वाराणसी के अरविद कुमार यादव की संयुक्त टीम ई-टिकट दलालों के विरुद्ध अभियान चला रही है। मुखबिर की सूचना पर निजामाबाद बाजार स्थित सुपर जनसेवा केंद्र पर छापेमारी की गई। इस दौरान अवैध रूप से रेलवे के ई-टिकट का कारोबार करने वाले निजामाबाद थाना क्षेत्र के हुसैनाबाद निवासी दो सगे भाई अनिल मौर्या (34) पुत्र बहादुर मौर्या व अरविद कुमार मौर्या (38) पुत्र बहादुर मौर्या दोनों भाई शामिल थे। दोनों ही आइआरसीटीसी की साइट पर पर्सनल यूजर आइडी बनाकर तत्काल प्लस साफटवेर के जरिये ई-टिकटों का अवैध कारोबार करते थे। दोनों पर रेल अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। इसमें सहायक उपनिरीक्षक बृजभूषण राय, कांस्टेबल दुर्गा प्रसाद यादव, कांस्टेबल अखिलेश सिंह, कांस्टेबल अजय सोनकर, कांस्टेबल विनय दुबे, औडिहार के कांस्टेबल रामबहादुर व वाराणसी के कांस्टेबल सुमित कुमार खरवार रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस