जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : सिधारी थाना क्षेत्र के लोहरई समेंदा गांव में शुक्रवार को हुई जवाहिर हत्याकांड में शामिल तीन आरोपितों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। जबकि दो आरोपी पुलिस की पकड़ से अभी फरार बताए जा रहे हैं।

सिधारी थाना क्षेत्र के बिरूआ समेंदा गांव निवासी 45 वर्षीय जवाहिर राम पुत्र स्व. धनई राम दो मार्च की रात को लोहरई समेंदा गांव निवासी नैनू के घर पर होली का दावत खाकर वापस आ रहा था। तभी गांव के रास्ते में पहले से घात लगाए हमलावरों ने पुरानी रंजिश को लेकर लाठी डंडे से पीट कर जवाहिर की हत्या कर दी थी। बीच बचाव करने जवाहिर के साथ मौजूद नैनू व उसके पुत्र को भी हमलावरों ने मारपीट दिया था। इस हत्या को लेकर बिरूआ समेंदा गांव के दलित बस्ती के आक्रोशित लोगों ने हमलावरों के घर पर धावा बोलकर उन्हें भी मारपीट कर घायल कर दिया था। घायल हमलावरों का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा था। पुलिस ने लोहरई समेंदा गांव निवासी जयराम यादव व उसके तीन पुत्र विनय यादव, बृजेश यादव, मुकेश यादव और टेंपू यादव के खिलाफ हत्या की धारा के तहत मुकदमा दर्ज की थी। खुलासा करते हुए बुधवार को एसपी सिटी सुभाषचंद गंगवार ने बताया कि मृत जवाहिर का हमलावर पक्ष से आपसी विवाद चल रहा था। होली के दिन शराब के नशे में हमलावरों ने जवाहिर पर हमला कर दिया था। जिससे उसकी मौत हो गई थी। पुलिस ने इस हत्याकांड के आरोपित विनोद यादव, बृजेश यादव व विनय यादव पुत्रगण जयराम यादव को बुधवार को अस्पताल से डिस्चार्ज होते ही सिधारी थाने की पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। जिसे फरार बता रही है, उसका पुलिस अभिरक्षा में चल रहा इलाज

जासं, आजमगढ़ : सिधारी थाना क्षेत्र के लोहरई समेंदा गांव में होली के दिन हुए जवाहिर हत्याकांड के जिन दो मुख्य आरोपितों को पुलिस फरार बता रही है, उन दोनों आरोपितों का पुलिस अभिरक्षा में जिला अस्पताल में अभी भी इलाज चल रहा है। पुलिस अभिरक्षा में अस्पताल में भर्ती आरोपितों में लोहरई समेंदा गांव निवासी जयराम पुत्र दशरथ यादव व मुकेश पुत्र जयराम यादव की हालत उतनी गंभीर नहीं हैं, जितनी बताई जा रही है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस