आजमगढ़ : बाटला कांड के बाद अस्तित्व में आई राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल की वह स्थिति नहीं रह गई है। इस बार के चुनाव में पड़े मतों के आंकड़े बताते हैं कि अब उनके चाहने वाले और मतों से समर्थन करने वालों की संख्या काफी कम हो गई है। पांच साल के बाद हुए आम चुनाव में 11,396 मतों की कमी दर्ज की गई।

16वीं लोकसभा के लिए 2014 के चुनाव में आजमगढ़ से राष्ट्रीय ओलमा कौंसिल के प्रत्याशी को मात्र 4892 मत मिले थे। हां, इस बार के चुनाव में 1,879 मतों की वृद्धि हुई और पार्टी प्रत्याशी को 6771 मत मिले। इसी प्रकार लालगंज सुरक्षित संसदीय सीट पर 2014 के चुनाव में पार्टी प्रत्याशी को 14,368 मत मिले थे लेकिन इस बार मात्र 6,093 मतों से ही संतोष करना पड़ा।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran