संजय श्रीवास्तव, आजमगढ़

वन विभाग में अब युवतियां वन माफियाओं से मोर्चा लेंगी। इसके लिए विभाग ने चार युवतियां व छह युवकों को क्षेत्रों में तैनात किया है। यह वन रक्षक पौधों की देखभाल के साथ जंगलों की सुरक्षा की कमान संभालेंगें। फिलहाल तीन युवतियों व दो युवकों को ट्रेनिग के लिए कानपुर भेजा गया। छह माह बाद ट्रेनिग समाप्त कर जिले के विभिन्न क्षेत्रों में इनकी तैनाती की जाएगी।

वन विभाग में वन रक्षक, रेंजर व माली के पद वर्षों से खाली पड़े हुए हैं। वन रक्षक के लिए 2016 में काफी युवक व युवतियों ने आवेदन किया था। इसमें चार लड़कियों और छह लड़कों की परीक्षा पास करने और 31 दिसंबर को इंटरव्यू के बाद नियुक्ति कर दी गई। इसमें पांच वन रक्षकों को ट्रेनिग के लिए कानपुर भेज दिया गया और पांच की क्षेत्रों में तैनाती कर दी गई। इसमें दो वन रक्षक जीयनपुर, एक को लालगंज, एक को अतरौलिया व एक युवती को कार्यालय में नियुक्त किया गया है। प्रभागीय वानिकी निदेशक अयोध्या प्रसाद ने बताया कि पांच वन रक्षकों को क्षेत्रों में तैनात कर दिया गया है। शेष पांच वन रक्षकों को ट्रेनिक से वापस आने के बाद क्षेत्रों में तैनात किया जाएगा। तैनात दसो वन रक्षकों के ऊपर पौधों की रखवाली से लेकर पेड़ों की कटाई रोकने तक की जिम्मेदारी रहेगी। वन रक्षकों की कमी के चलते वन माफियाओं पर रोक नहीं लग पा रही थी। अब वन रक्षकों की नई टीम वन माफियाओं पर नकेल कसने को तैयार है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस