जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : एक पखवारा पहले बारिश के बाद लगातार मौसम अनुकूल होने के साथ दुर्गा पूजा के साथ दशहरा की तैयारियां जोर पकड़ने लगी हैं। एक तरफ देवी मइया के जयकारे से पूरा वातावरण सुबह-शाम गूंज रहा है, वहीं प्रतिमा स्थापना के लिए पंडालों को सुंदर रूप देने के लिए कारीगर दिन-रात जुटे हुए हैं। मूर्ति कलाकार प्रतिमाओं में रंग भरने का काम तेज कर दिए हैं। विद्युत सजावट का काम भी शुरू हो गया है।

शहर के दलालघाट पर प्राचीन धर्म रक्षक दल, पुरानी कोतवाली पार्क में जय मां अंबे पूजा समिति और आसिफगंज में श्री दुर्गा पूजा मंडप समिति की ओर से भव्य पंडाल बनाया गया है। देवी मइया की विधि-विधान से पूजन-अर्चन कर प्रतिमा स्थापित की गई। शाम होने के बाद दर्शन-पूजन के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ रही है। ग्रामीण अंचलों में बने पूजा पंडालों में भी देवी प्रतिमाओं की स्थापना का सिलसिला शुरू हो गया है। सप्तमी तक लगभग सभी स्थानों पर प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हो जाएगा। कुछ स्थानों पर प्राण प्रतिष्ठा भी हो गई है। शहर में प्राण प्रतिष्ठा का कोई निर्धारित समय नहीं है। कहीं पहले दिन प्रतिमा की स्थापना हो जाती है, तो कहीं सप्तमी के बाद भी होती है। कुल मिलाकर दुर्गा पूजा में हर तरफ वातावरण देवीमय हो गया है, वहीं दशहरा नजदीक आने से हर कोई त्योहार की तैयारियों में जुटा है।

Edited By: Jagran