जासं, आजमगढ़ : अखिल भारतीय काव्य मंच की ओर से शारदा चौराहा स्थित एक विद्यालय परिसर में होली मिलन समारोह और कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि जिलाधिकारी एनपी सिंह ने कहा कि कवियों की रचनाएं सामाजिक एकता, आपसी भाईचारा, सामाजिक समरसता को बनाए रखने के लिए होनी चाहिए।

मंच के प्रांतीय संरक्षक फौजदार सिंह ने कहा कि इस तरह के आयोजनों से राष्ट्रीय एकता और भाईचारे को बल मिलता है। जिलाधिकारी ने सभी कवियों व शायरों को स्मृति चिह्न व मोमेंटो देकर सम्मानित किया। विशिष्ट अतिथि उपश्रमायुक्त रोशन लाल, सहायक अभियंता संदीप प्रजापति व वीरेंद्र कुमार सिंह रहे। काव्य मंच के संस्थापक डा. प्रमोद वाचस्पति ने काव्य पाठ के माध्यम से राष्ट्रीय एकता और अखंडता का संदेश दिया।

शायर आकिल जौनपुरी ने इतना खौफनाक मंजर है कि शेर कहना भी दूभर है.. सुनाकर वर्तमान हालात को उजागर किया। इसमें मोनिस, अंसार, तरन्नुम, आशा सिंह, देवमणि त्रिपाठी अंगार, संजय पांडेय, धर्मू प्रसाद यादव, जयप्रकाश यादव, कृपाशंकर पाठक, छोटेलाल, वीरेंद्र यादव, गिरिश चतुर्वेदी आदि रहे। अध्यक्षता कवि प्रभुनारायण पांडेय प्रेमी व संचालन सभाजीत द्विवेदी प्रखर ने किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस