जागरण संवाददाता, आजमगढ़: कृषि विज्ञान केंद्र कोटवा के सभागार में गुरुवार को कृषि विविधीकरण एवं तकनीक के प्रयोग से कृषि एवं संबद्ध क्रियाओं बागवानी, पशुपालन, मत्स्य एवं खाद्य प्रसंस्करण आदि क्षेत्रों में विकास के विभिन्न आयामों विमर्श किया गया।

जिले में विकास की संभावनाओं पर अध्ययन एवं रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए केवीके के प्रभारी अधिकारी प्रो. डीके सिंह की अध्यक्षता में कृषि एवं समवर्ती विभागों के अधिकारियों की छह सदस्यीय समिति का गठन किया गया। खाद्य प्रसंस्करण में विकास की असीम संभावनाओं को देखते हुए भविष्य की रूप रेखा तय करने का सुझाव दिया गया।

अध्यक्ष ने वर्तमान में कृषि एवं संबंधित घटक विभागों से घटकवार जिले के आंकड़े, किसानों की विभिन्न योजनाओं का संक्षिप्त विवरण एवं लक्ष्यों की प्राप्ति और जिले विकास के लिए घटकवार कार्य योजना बनाकर अगली बैठक में उपस्थित होने के निर्देश दिए। विज्ञानी डा. डीके द्विवेदी, डीडी कृषि निदेशक मुकेश कुमार, जिला कृषि अधिकारी डा. गगनदीप सिंह, मुख्य कार्यकारी अधिकारी मत्स्य राजकुमार, वीओ डा. रमेश व डा. जगदीश प्रसाद, विज्ञानी डा. आरके सिंह, डा. रुद्र प्रताप सिंह, डा. रणधीर नायक, डा. विनीत प्रताप सिंह, डा. विनोद वर्मा व डा. विमलेश थे।

Edited By: Jagran