जागरण संवाददाता, चक्रपानपुर (आजमगढ़) : देश में कोरोना संक्रमण का असर कम होने के साथ-साथ ब्लैक फंगस ने भी अपना पांव पसारना शुरू कर दिया। हालांकि इससे निपटने के लिए शासन- प्रशासन के साथ स्वास्थ्य विभाग भी युद्ध स्तर पर तैयारी में लगा है। इसी क्रम में राजकीय मेडिकल कालेज भी पूरी तरह तैयार है। इसके लिए 20 बेड का अलग से वार्ड बनाया गया है। वैसे अभी यहां एक ही मरीज भर्ती है। नोडल अधिकारी डा. दीपक पांडेय ने बताया कि तीन प्रकार के इंजेक्शन एंफोटेरिसिन- बी, पोसाकोना जोल तथा आइसाकोनाजोल ब्लैक फंगस के मरीज को लगाए जाते हैं । इनमें एंफोटेरिसिन- बी इंजेक्शन ब्लैक फंगस के रजिस्टर्ड मरीजों के लिए शासन स्तर से उपलब्ध कराया जाता है। इसका स्टोर नहीं होता है, जबकि पोसाकोनाजोल एवं आइसाकोनाजोल इंजेक्शन के साथ अन्य संबंधित दवाएं उपलब्ध हैं।

Edited By: Jagran