-आयोजन ::::

-सभी ने लिया चीन निर्मित सामान के बहिष्कार का संकल्प

- स्वतंत्रता सेनानियों ने देश के लिए ही किया संघर्ष : यशवंत

जागरण संवाददाता, जहानागंज (आजमगढ़) : देश को आजाद कराने से लेकर संगठित करने एवं देश को बचाने के लिए हर कदम पर स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों ने संघर्ष किया है। उनके बलिदानों के बल पर ही आज हम और हमारा देश सुरक्षित है।

उक्त बातें प्रदेश के पूर्व मंत्री व विधान परिषद सदस्य एवं लोकतंत्र कल्याण समिति के संरक्षक सयशवंत सिंह ने कही। वे मंगलवार को श्री चंद्रशेखर स्मारक ट्रस्ट पर लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति की ओर से आयोजित चीन निर्मित सामानों के बहिष्कार के संकल्प कार्यकम को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सम्मान मोदी और योगी का कीजिए जिनकी बदौलत देश आगे बढ़ रहा है।

अपने जन्मदिन पर कार्यकर्ताओं द्वारा सम्मानित किए जाने पर उन्होंने कहा कि हम-आप मिलकर यह संकल्प लेते हैं कि हम चीन निर्मित सामानों का बहिष्कार करेंगे और भारत के अपमान को कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे।

यशवंत ने सुबह की शुरुआत अपनी मां कमला देवी का अल्देमऊ में पैर छूकर आशीर्वाद के साथ की। यशवंत के साथ लोकतंत्र सेनानी कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष रामसेवक यादव, जालंधर नाथ श्रीवास्तव, रामाधार सिंह, बाबूलाल, सुशील अग्रवाल, रंजन सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने ट्रस्ट से पदयात्रा निकाली।चीन का सामान भारत का अपमान, विदेशी हटाओ स्वदेशी अपनाओ का नारा लगाया।इसके पश्चात हरिहरपुर घराने के राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कलाकारों ने यशवंत सिंह की मनोकामना पूरी करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की।

यशवंत को आशीर्वाद देने वालों में इटावा के सहदेव सिंह यादव, गाजीपुर के बाबू लाल यादव, उदय प्रताप सिंह, देवधारी यादव, राम आधार यादव, आजमगढ़ के डा. लालता प्रसाद यादव, पतिराम यादव, रमाकांत पांडेय, भदोही के माया शंकर पासी आदि थे।

आर्गनाइजेशन आफ केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट के प्रदेश सचिव सुधीर अग्रवाल, जिला महामंत्री रंजन राय, स्वराज इंडिया गाजीपुर के जिलाध्यक्ष रमेश यादव ने यशवंत को अंगवस्त्रम प्रदान कर सम्मानित किया।

रमेश कनौजिया, अरुण सिंह, मोहर सिंह, ट्रस्ट प्रबंधक बृजेश कांदू, अशोक पांडेय, उदय शंकर चौरसिया, संजय श्रीवास्तव, अनिल सिंह, शमशेर सिंह, विजय बहादुर सिंह भक्कू, लालबहादुर सिंह, छोटू पांडेय, अतुल चौबे, चंचल चौबे, मंगरू सिंह, स्वतंत्र सिंह, बलराज सिंह, रामअवतार जायसवाल, राणा प्रताप सिंह आदि थे। अध्यक्षता रामसेवक यादव ने की व संचालन धीरेंद्र नाथ श्रीवास्तव ने किया।

Edited By: Jagran