जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : डीएम नागेंद्र प्रसाद सिंह ने रविवार को नगरीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दलसिगार में राष्ट्रीय फाइलेरिया नियंत्रण अभियान के तहत सामूहिक दवा वितरण (एमडीए) का शुभारंभ किया। उन्होंने लक्ष्मी (5), इस्माइल (8) और एखलाक अहमद (8) को डीइसी 100 एमजी, अल्बेंडाजोल 400 एमजी की गोली खिलाई। अभियान 16 फरवरी से 26 फरवरी तक चलेगा।

डीएम ने बताया कि फाइलेरिया में सावधानी बरतने की जरूरत है, क्योंकि दवा की खुराक खाली पेट नहीं खिलानी है। अत्यंत बीमार, कमजोर, हृदय रोगी और गर्भवती महिलाओं को दवा की खुराक नहीं देनी चाहिए। दवा की खुराक लेने के बाद किसी को भी किसी तरह की परेशानी या उलझन हो तो निकटतम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक से संपर्क कर सलाह या रैपिड रिस्पांड टीम का सहयोग लें। सीएमओ डा. एके मिश्रा, अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. एके सिंह, डिप्टी सीएमओ डा. परवेज अख्तर, प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. आशीष सिंह, फार्मासिस्ट प्रेम सागर यादव, लैब टेक्नीशियन रजनीश कुमार, स्टाफ नर्स संजीत शर्मा, सुधा मौर्या थीं।

-

फाइलेरिया के लक्षण

फाइलेरिया मच्छर जनित रोग है जो एक विशेष प्रकार के मच्छर के काटने से होता है। इसके काटने के 15 दिन बाद बुखार आना, कुछ समय पश्चात शरीर के किसी भी अंग में सूजन का होना जैसे हाथी पांव, पैरों में सूजन, अंडकोशों में सूजन, स्तन और हाथों में स्थायी सूजन का होना फाइलेरिया के लक्षण हैं।

-

दवा की खुराक व सावधानी

फाइलेरिया की दवा की खुराक में दो वर्ष से कम उम्र के बच्चों को दवा नहीं खिलानी है। दो वर्ष से ऊपर पांच वर्ष तक के बच्चों को डीइसी 100 एमजी की एक गोली, अल्बेंडाजोल 400 एमजी की एक गोली, पांच वर्ष से ऊपर 15 वर्ष तक डीइसी 100 एमजी की दो गोली, अल्बेंडाजोल 400 एमजी की एक गोली और 15 वर्ष से ऊपर के बच्चों को डीइसी की 100 एमजी की तीन गोली व अल्बेंडाजोल 400 एमजी की एक गोली खिलाई जाती है।

-

सीएम आरोग्य स्वास्थ्य मेला

मुख्यमंत्री आरोग्य स्वास्थ्य मेला का आयोजन दो फरवरी से प्रत्येक रविवार को आयोजित किया जाता है। इसमें मरीजों की खून की जांच, ब्लड ग्रुप, शुगर, बीपी, हीमोग्लोबीन, गर्भवती महिलाओं की जांच व प्राथमिक उपचार की सभी दवाएं दी जाती हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस