जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : डीएम विशाल भारद्वाज गुरुवार को मंडलीय जिला चिकित्सालय में औचक धमक पड़े। बाथरूम, शौयालय, वार्ड में निरीक्षण करते आगे बढ़े तो चाक-चौबंद व्यवस्था के दावों की एक-एक कर पोल खुलती गई। एक्स-रे मशीन एवं सीटी स्कैन मशीन को अक्रियाशील देख जिलाधिकारी नाराज हो उठे। उन्हें जब यह पता चला कि दोनों मशीने महीनों से खराब पड़ी हैं, तो गंभीर हो उठे। एसआइसी एवं सीएमओ को व्यवस्था यथाशीघ्र दुरुस्त करने एवं मरीजों की जरूरताें का ख्याल रखने के निर्देश दिए।

जिलाधिकारी दिन में साढ़े 11 बजे जिला अस्पताल पहुंचे थे। उस समय ओपीडी में लोगों की भीड़ उमड़ी थी। रस्म अदायगी से दूर वह सीधा आर्थो वार्ड, आइसीयू वार्ड, टीबी वार्ड, टेलीमेडिसीन वार्ड, मेन सर्जिकल वार्ड, डेंगू वार्ड, आयुष्मान कार्ड वार्ड, पुरुष सर्जिकल वार्ड का निरीक्षण किया। चिकित्सकों को निर्देश दिए कि यदि बहुत आवश्यक हो तभी राउंड पर जाएं अन्यथा ओपीडी में बैठकर मरीजों को देखें।

शौचालय में गंदगी देख नाराजगी व्यक्त की। पेयजल व्यवस्था, साफ-सफाई और सुदृढ़ रखने का निर्देश दिया। ट्रामा सेंटर में पहुंचे तो मरीजों से रूबरू होते हुए उनसे व्यवस्थाओं की जानकारी ली। दवा वितरण केंद्र के निरीक्षण में निर्देश दिए कि मरीजों को दवाएं अस्पताल से ही देना सुनिश्चित करें। सीएमओ डा. इंद्रनारायण तिवारी, एसआइसी डा. अनूप श्रीवास्तव सहित अन्य चिकित्सक व स्वास्थकर्मी थे।

Edited By: Saurabh Chakravarty

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट