गेम नंबर--

-1871 कुल ग्राम पंचायतें।

-1767 ग्राम पंचायतों में कार्य शुरू।

-1,00,221 लाख श्रमिक लगे हैं।

-18500 प्रवासियों का बना जॉबकार्ड।

-16000 प्रवासियों को मिला है कार्य।

-4,00,037 रुपये का भुगतान।

-900000 लाख मानव दिवस सृजित।

-19,89,00,000 रुपये का भुगतान।

(25 मई का विभागीय आंकड़ा)

जागरण संवाददाता, आजमगढ़: लॉकडाउन की स्थिति में मनरेगा के अंतर्गत अधिक से अधिक प्रवासियों को कार्य दिए जाने हैं। शासन के आदेश और प्रशासन की नियमित निगरानी का असर रहा है कि मनरेगा कार्य में अपना जिला उत्तर प्रदेश के टॉप-7 जिलों में शामिल है। इसमें सिद्धार्थनगर, महराजगंज, लखीमपुर खीरी, भदोही, गाजीपुर और हरदोई भी शामिल है। हालांकि पांच ब्लाकों की प्रगति खराब है। संबंधित बीडीओ, रोजगार सेवक और तकनीकी सहायकों को 100 फीसद प्रगति लाने के सख्त निर्देश दिए गए हैं।

योजना के अंतर्गत जिले के 22 विकास खंडों में जल संरक्षण के लिए तालाब की खोदाई, चकबंध, सिचाई के लिए नाला निर्माण, पौधरोपण के लिए गड्ढा खोदाई का कार्य किया जाना है। लॉकडाउन से पूर्व जिले में एक लाख, 138 हजार श्रमिकों को कार्य दिए जाने का लक्ष्य दिया गया था। लॉकडाउन की अवधि में प्रवासी श्रमिकों को प्राथमिकता के आधार जॉबकार्ड बनाना और उन्हें कार्य दिए जाने का निर्देश है। लेकिन ब्लाक पल्हनी, तहबरपुर, फूलपुर, पवई और महराजगंज की प्रगति संतोषजनक नहीं है।उधर, तहसील स्तर पर एसडीएम भी लगातार निरीक्षण कर रहे हैं।

अब तक की प्रगति में टॉप फाइव ब्लाक(फीसद)

-अजमतगढ़----143

-बिलरियागंज---116

-अहरौला------94

-कोयलसा------87

-जहानागंज-----75

-----------

वर्जन--

''शत-प्रतिशत लक्ष्य पूरा करने और प्रवासियों को जॉबकार्ड निर्गत करने के साथ ही क्वारंटाइन किए गए प्रवासियों को काम दिलाने के लिए सभी बीडीओ, ग्राम रोजगार सेवक को निर्देश दिए गए हैं। तकनीकी सहायकों को निर्देशित किया गया है कि वे अगले माह की अग्रिम कार्ययोजना तैयार रखें, अन्यथा कार्रवाई सुनिश्चित की जाएगी।

--बीबी सिंह, डीसी, मनरेगा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस