जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : बुधवार की सुबह, समय पांच बजे, स्थान आईटीआई का मैदान। कार्यक्रम था योग चिकित्सा एवं ध्यान शिविर का। योग गुरु बाबा रामदेव मंच पर बैठकर सबसे पहले ऊँ का उच्चारण किया। इधर, मैदान में अलसुबह से लोगों के आने का क्रम जारी रहा। तय समय से आधा घंटा बाद पूरा परिसर भर गया। योग की कक्षा में बाबा रामदेव के संग आमजन भी उनके साथ योग की क्रिया ध्यान से दोहराने में जुटे रहे। वहीं योग के साथ बाबा रामदेव ज्ञान देकर लोगों का मार्ग दर्शन भी करते रहे।

मंच से बाबा रामदेव ने कहा कि इस समय पूरा आजमगढ़ सोया हुआ है। इस नींद को तोड़कर जो लोग यहां आए हैं, वह अपने स्वास्थ्य के प्रति ¨चतित हैं। आज हर कोई भागदौड़, कामकाज, तनाव, आपाधापी की ¨जदगी में व्यस्त है। अधिक से अधिक पैसा कमाने की चाहत में सुख चैन छीन गया है। वह अपने स्वास्थ्य के प्रति ¨चतित नहीं है। ऐसे में आजमगढ़ के जितने लोग यहां आएं हैं वह संकल्प लें कि योग कर स्वस्थ रहेंगे। बाबा रामदेव ने कपालभांति से योग की शुरुआत की। करीब पन्द्रह मिनट तक लोगों को कपालभांति कराई। बाबा रामदेव के स्वागत में बार-बार तालियां भी बजती रहीं। योग की क्रियाओं को गुनने बुनने के दौरान बाबा रामदेव बीच-बीच में लोगों को गुदगुदाते व हंसाते भी रहे। योग की कक्षा में हर धर्म व जाति के लोगों की जहां जुटान हुई थी वहीं महिलाओं व बच्चों की अच्छी खासी भीड़ रही। इतना नहीं योग करने के लिए ऐसे लोग आए थे जो बमुश्किल से बैठ भी नहीं पा रहे थे। कुछ दिव्यांग भी पहुंचे थे कुछ पैर से लाचार भी। बस, इस उम्मीद संग उनकी परेशानियां बाबा दूर कर देंगे। बाबा रामदेव ने अनुलोम विलोम, भस्त्रिका सहित तमाम योग कराएं। पीठ व कमर दर्द से संबंधित भी योग कराकर लोगों को उपचार की बात बताई।

अचानक स्पार्किंग करने लगा तार

आजमगढ़ : आईटीआइ मैदान में साढ़े छह बजे के करीब अचानक खंभे से गुजरा तार स्पार्किंग करने लगा। बाबा रामदेव ने कहा कि घबराइए नहीं, जब दो चीजें आपस में टकराती हैं तो ¨चगारी निकलती है। बिजली के तार भी टकरा रहे हैं तो ¨चगारी निकल रहीं है। घबराने की बात नहीं हैं वह किनारे है। बिजली विभाग वाले ठीक करने में लगे होंगे। इससे थोड़ी देर के लिए योग में व्यवधान उत्पन्न हुआ लेकिन फिर शुरू हो गया।

-------------

सुबह चार बजे से लग गया रेला

आजमगढ़ : आईटीआइ मैदान की तरफ सुबह चार बजे से ही लोगों का रेला चलना शुरू हो गया था। शाम पांच बजते-बजते पूरा मैदान लोगों से खचाखच भर गया। कोई पैदल ही चल रहा था तो कोई बाइक व अन्य वाहन से। योग शिविर में पहुंचकर लोग अपने को धन्य महसूस कर रहे थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस