आजमगढ़, जेएनएन। कई दिनों से ठंड के कारण परेशान रहे लोगों काे सूर्यदेव ने राहत दी। कई तरह की आशंकाओं को दरकिनार करते हुए सुबह धूप खिली तो लोग घरों से बाहर निकल आए। 48 घंटे में स्थिर रहे तापमान ने भी लोगों की मुश्किलें कम करने में संजीवनी का काम किया। वायु गुणवत्ता सूचकांक के खराब होने व हवाओं की रफ्तार 6.2 किमी. प्रति घंटा ने रोड़ा अटकाया लेकिन लोगबाग गर्म कपड़ों से ठंड का बचाव करते हुए धूप का आनंद लेते नजर आए।

सोमवार को शाम ढलते ही मौसम में बड़ा उलटफेर देखने को मिलने लगा था। शाम में सात बजने तक शहर ने कोहरे की चादर से ढक गया था। ऐसे में लोगों के मन में कई तरह की आशंकाएं घिरने लगीं थीं। मंगलवार की सुबह सूर्यदेव की तेज के आगे सारी आशंकाएं खत्म हो गईं। खिली धूप देख लोग घरों से बाहर निकल आए। शहर से लेकर कस्बाई इलाकों तक में लोग घर की छतों, दरवाजों पर बैठे नजर आए। एयर क्वालिटी इंडेक्स 270 अंक तक पहुंचना जरूर आदर्श मानक से 170 अंक ज्यादा होने से श्वास लेने में लोगों को दिक्कत हुई। वायुमंडल में व्याप्त खतरनाक कण श्वास लेने के साथ ही मनुष्य के शरीर में प्रवेश कर कई तरह की दुश्वारियों के कारक बनते हैं। मौसम विज्ञानियों के धूम की तेज दिन चढ़ने के साथ कमजोर पड़ने की आशंका जताई है। अधिकतम तापमान बीते 48 घंटे की तरह 21 डिग्री तक बने रहने की संभावना से भी ठंड के स्थिर बने रहने का संकेत है।

बोले चि‍कित्‍सक

धूप की रोशनी लेना बहुत जरूरी है। इससे हमें प्राकृतिक रूप से विटामिन डी मिलता है। अहम है कि किसी खाद्य पदार्थ से विटामिन डी की कमी पूरी नहीं की जा सकती है। रोजाना आधा घंटे धूप जरूरी लेना चाहिए। धूप के बाद इस विटामिन का विकल्प दवा ही है। ऐसे में धूम लेने से हड्डियां मजबूत होंगी और कई कई तरह की परेशानियों से लोग खुद का बचाव कर सकेंगे। -अभिषेक सिंह, हड्डी रोग विशेषज्ञ, मंडलीय अस्पताल।

Edited By: Abhishek Sharma