दुस्साहस

- सुरक्षा को लगे लोहे के घेरा को इलेक्ट्रिक कटर से काटकर घटना को दिया अंजाम

-पुलिस चौकी से 200 मीटर की दूरी पर हुई वारदात, लोग स्तब्ध

-अजमतगढ़ के लोगों में आक्रोश, पुलिस जांच में जुटी जागरण संवाददाता, सगड़ी (आजमगढ़) : जीयनपुर कोतवाली क्षेत्र के अजमतगढ़ कस्बा के राम वाटिका स्थित प्राचीन मंदिर से गुरुवार की रात राधा-कृष्ण की 40 किलो वजन की अष्टधातु की मूर्ति चोरी हो गई। चोर मूर्ति की सुरक्षा को लगाए गए लोहे के घेरा को इलेक्ट्रिक कटर से काटकर घटना को अंजाम दिए। घटना से कस्बा के लोगों में जबरदस्त आक्रोश है।पुलिस घटना की जांच में जुट गई है।

अजमतगढ़ कस्बा स्थित प्राचीन राधा-कृष्ण मंदिर के प्रति लोगों में विशेष आस्था है। उसमें स्थापित भगवान श्रीकृष्ण व राधा की मूर्ति की पूजा करने के लिए लोगों की भीड़ उमड़ती थी। शुक्रवार की सुबह आठ बजे मंदिर की साफ-सफाई करने के लिए सुरेंद्र मौर्य पहुंचे तो उनके पैरों तले जमीं खिसक गई। दरअसल, मुख्य दरवाजे के रास्ते अंदर घुसे तो राधा-कृष्ण की अष्टधातु निर्मित मूर्ति गायब थी। फिर क्या, घटना की भनक लगते ही लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी। घटनास्थल देखने से प्रतीत हो रहा था कि चोर छत के रास्ते मंदिर में दाखिल हुए होंगे, क्योंकि सुरेंद्र तो मुख्य दरवाजे के रास्ते ही मंदिर में दाखिल हुए थे। जीयनपुर पुलिस पहुंची तो लोगों की वहां भारी भीड़ इकट्ठा थी। लोगों में नाराजगी इस बात की रही कि दो से तीन सौ मीटर दूर पुलिस चौकी होने के बावजूद चोर मनमानी करने में सफल हो गए। चोरी की पूर्व में हुई घटनाओं का संज्ञान नहीं लिए जाने को ही लोग इस घटना की वजह मान रहे थे। अजमतगढ़ कस्बा में सभी मुख्य मार्ग पर सीसी कैमरे लगाए गए हैं, लेकिन प्रसिद्ध मंदिर इससे अछूता रह गया। चोरों ने इसका लाभ भी उठा लिया। जीयनपुर कोतवाल जितेंद्र सिंह ने कहा कि जांच की जा रही है। केस दर्ज कर जल्द ही घटना का राजफाश किया जाएगा।

Edited By: Jagran