जागरण संवाददाता, रौनापार (आजमगढ़) : बारिश थमने के साथ ही उफना रही सरयू का प्रवाह सिमटने लगा है। इंद्रदेव की मेहरबानी से दूसरे दिन जलस्तर में दो सेंटीमीटर की कमी आ गई। हालांकि, बगहवा और गांगेपुर मठिया में हो रहा कटान बदस्तूर जारी है। रिग बांध को बचाने संबंधी इंजीनियरों का प्रयास शुक्रवार को भी जारी रहा।

महुला बांध के उत्तरी भाग के गांव अचल नगर, वासु का पूरा, सेमरी बगहवा अभनपट्टी सहित दर्जनों गांव पानी से घिरे हुए हैं। जिससे आवागमन में काफी दिक्कत हो रही है। बाढ़ के पानी से बगहवा, सेमरी और मल्लाह का पुरवा में भी कटान शुरू हो गई है। गागेपुर मठिया और परसिया रिग बांध तो पहले ही अति संवेदनशील है। किसानों की कट रही जमीन और बर्बाद हो रही खड़ी फसल के बारे में किसी को तनिक भी चिता नहीं है। गांव में पशुओं के चारा की समस्या बढ़ती ही जा रही है। सर्दी, जुखाम, बुखार की परेशानी ने गांव में पांव पसारना शुरू कर दिया है। देवारा इलाके के प्रत्येक तीसरा व्यक्ति इस परेशानी से जूझ रहा है। बांध पर स्थापित चौकियों पर स्वास्थ्य कर्मियों की उपस्थिति नहीं होने से देवारा के लोगों को मामूली दवाएं भी उपलब्ध नहीं हो पा रही। शुक्रवार को नदी का जलस्तर डिघिया नाले पर 71.07 मीटर रहा, जो शनिवार को 70.02 मीटर पर पहुंच गया था। इसी तरह बदरहुआ नाले पर शुक्रवार को 71.86 मीटर रहा जलस्तर शनिवार को 71.84 मीटर पर आ पहुंचा था।

Edited By: Jagran