आजमगढ़ : महराजगंज थाना क्षेत्र के परशुरामपुर बाजार में एक युवक ने आर्थिक तंगी से क्षुब्ध होकर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बुधवार की आधी रात को उसका शव घर के सामने स्थित पेड़ से लटकता हुआ मिला। परिजनों के चीख पुकार से बाजार में कोहराम मचा हुआ है।

परशुरामपुर बाजार निवासी 40 वर्षीय रामशब्द निषाद पुत्र स्व. तेजू निषाद परिवार के भरण पोषण के लिए रिक्शा ट्राली चलाता था। वह चार भाइयों में तीसरे नंबर पर था। सभी भाई अपने अपने परिवार समेत अलग-अलग रहते हैं। पत्नी आसमी का कहना है कि बुधवार की रात को भोजन कर वह भी परिजनों के साथ सो रहा था। रात को जब परिवार के लोग सो गए तो वह इस बीच घर से बाहर निकला। घर के सामने स्थित नीम के पेड़ की डाल पर रस्सी के सहारे फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। घटना की जानकारी परिजनों को तब हुई जब परिवार का एक बालक आधी रात को लघुशंका करने के लिए घर के बाहर निकल कर आया। पेड़ पर शव को लटकता देख उसने शोर मचाया। शोर सुनकर परिजन के साथ ही गांव के लोग भी जग गए। गांव के ग्राम प्रधान ने रात को ही पुलिस को घटना की सूचना दी। गुरुवार की सुबह मौके पर पहुंची पुलिस घटना की छानबीन करने के बाद शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया। मृत युवक के चार बच्चे हैं। उसके घर की आर्थिक स्थित ठीक नहीं है। आशियाना के नाम पर एक टूटी मड़ई है। उसके दो पुत्र सुरेंद्र व सुकेन भी घर का खर्च चलाने के लिए मजदूरी करते हैं। रुपये के अभाव में अक्सर परिवार में झगड़ा होता था। ग्रामीणों का कहना है कि आर्थिक तंगी के चलते ही उसने फांसी लगाकर आत्महत्या की है। गांव के पूर्व प्रधान जित्तू यादव व वर्तमान प्रधान राजकुमार सोनकर का भी कहना है कि उसकी माली हालत सही नहीं थी। उसके पास पात्र गृहस्थी का राशन कार्ड है। इस राशन कार्ड पर उसे प्रति माह 15 किलो खाद्यान्न मिलता है।

Posted By: Jagran