तमसा नदी अम्बेडकर नगर से निकलकर आजमगढ़ होते हुए बलिया जिले में गंगा में मिलती है। इसकी लम्बाई 89 किमी है। आजमगढ़ में यह नदी तीन तरफ से बहती है। शहर नदी से तीन तरफ से घिरा है। शहर की सुरक्षा के लिए टौंस एडवान्स एवं शहर सुरक्षा बांध बना है।

नदी का डिस्चार्ज 224. 64 क्यूसेक है। यह नदी आस्था के दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण स्थान रखती है। कारण की सती अनुसुइया के तीनों पुत्रों दुर्वासा, दत्तात्रेय और चंद्रमा ऋषि की तपोस्थली इसी नदी के तट पर है। पिछले दो दशक से नदी में नौ औद्योगिक इकाइयों द्वारा लगातार अपशिष्ट बहाया जा रहा है। जांच के बाद स्थिति स्पष्ट होने पर भी प्रशासन द्वारा आजतक कोई कार्रवाई नहीं की गई। शहर और कस्बों का गंदा पानी भी इसमें बहाया जा रहा है। परिणामस्वरूप नदी की हालत नहर जैसी हो गई है। वर्तमान में इसमें पानी से अधिक शैवाल और कीचड़ दिख रहा है। नदी के उद्धार के लिए आज तक कोई प्रयास नहीं हुआ है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर