संस, अजीतमल: कोतवाली क्षेत्र में दो अलग-अलग स्थानों पर युवक व एक महिला का शव फंदे पर लटका मिलने से सनसनी फैल गई। ग्रामीणों से मिली जानकारी के बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लिए। इसके बाद जांच पड़ताल की। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजे गए हैं।

अजीतमल कोतवाली क्षेत्र के कुल्हुरुआ गांव निवासी 36 वर्षीय संजय सिंह उर्फ नीरज पुत्र भजन सिंह खेती किसानी कर पत्नी उमाकांती व चार वर्षीय पुत्र प्रिस समेत स्वजन का भरण पोषण करता था। रोज की तरह वह रविवार सुबह घर से टहलने के लिए निकला था। गांव से करीब आधा किमी दूर बाबरपुर-फफूंद मार्ग पर सड़क किनारे खेत में नीम के पेड़ की डंगाल से फंदे पर उसका शव लटका मिला। नित्य क्रिया को खेतों की ओर जा रहे गांव के कुछ लोगों की नजर पड़ी तो वह सहम गए। शिनाख्त पर स्वजन को सूचना दी। क्षेत्राधिकारी प्रदीप कुमार ने बताया कि शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का सही कारण पता लग सकेगा। उधर, स्वजन ने हत्या कर शव फंदे पर लटकाने का आरोप लगाया है। इस बिदु पर जांच की जा रही है। दूसरी ओर एक महिला का शव शनिवार की देर रात अटसू कस्बा के गाजीपुर गांव में घर के इज्जतघर की चौखट में फंदे पर लटका मिला। आलमगीरपुर गांव निवासी 28 वर्षीय आरती की शादी गाजीपुर गांव निवासी देवेंद्र कुमार दोहरे के साथ वर्ष 2012 में हुई थी। वह चार पुत्रियों व एक बेटे समेत देवेंद्र के साथ अटसू कस्बे में किराये के कमरे में रहती थी। देवेंद्र ने पुलिस को बताया कि वह दिहाड़ी पर खेतों पर काम करता है। एक माह पूर्व ही वह कमरा छोड़कर फिर से गांव लौट गया था। बच्चों की परवरिश की चिता में डूबी पत्नी आरती कई दिनों से बीमार थी। अच्छे दिन आने का भरोसा उसे पति द्वारा दिया जाता है। लेकिन कुछ ठीक न होता देख उसने रस्सी का फंदे बनाकर फांसी लगा ली। आरती लघुशंका की बात कहकर घर के बाहर बने इज्जतघर की ओर गई थी। वापस न लौटने पर पुत्री शिवानी देखने गई तो मां को इज्जतघर की चौखट पर फंदे पर लटका देख उसकी चीख निकल गई। इसके बाद स्वजन पहुंचे थे। प्रभारी कोतवाली निरीक्षक (अपराध) गया प्रसाद ने बताया कि शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

Edited By: Jagran