- राज्य निर्वाचन आयोग ने दिए सत्यापन के निर्देश

- मार्च से शुरु हो सकता है मतदाता पुनरीक्षण सूची का काम

जागरण संवाददाता, औरैया: प्रदेश में इस साल होने वाले संभावित त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की तैयारियां प्रशासन ने तेज कर दीं है। राज्य निर्वाचन आयोग ने मतदान केंद्रो के स्थलीय निरीक्षण के निर्देश दिए हैं। निर्बल बस्तियों गांव में मतदान स्थल स्थापित करने पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश दिए गए हैं। मतदान केंद्रो की तैयारियों के लिए इस बार निर्देशित किया गया है कि एक केंद्र पर मतदाताओं की संख्या 800 से अधिक न हो, पर ही बूथ बनाया जाए। जनपद में पिछले चुनाव में 787 मतदान केंद्र बनाए गए थे।

प्रदेश में इस साल पंतायत चुनाव संभावित है जिनकी तैयारियां अभी से शुरू कर दी गई हैं। ग्राम पंचायतों का कार्यकाल 25 दिसंबर 2020 को खत्म हो रहा है। आयोग की मंशा है कि कार्यकाल समाप्त होने से पहले ही चुनाव प्रक्रिया को संपन्न करा लिया जाए। राज्य निर्वाचन आयोग ने जिला प्रशासन को पत्र भेजा है जिसमें कहा गया है कि मतदान केंद्रो का सत्यापन करने को कहा है। निर्देश में कहा गया है कि मतदान स्थलों का मैनुअल करते हुए, आयोग के डाटा बेस में फीड करने नए मतदान केंद्र बनाने परिवर्तन करने, समाप्त करने से पहले ही अनुमोदन कर लिया जाएगा। उम्मीद है कि आयोग ने इस बार ग्राम पंचायत,क्षेत्र पंचायत,जिला पंचायत के लिए एक साथ मतदान कराएगा। पत्र मिलने के बाद जिला प्रशासन ने सभी एसडीएम और ब्लाक अधिकारियों को मतदान केंद्र और मतदेय स्थलों का निरीक्षण करने को कहा है। निरीक्षण में यह ध्यान में रखने को कहा गया है कि एक मतदान केंद्र पर छह से अधिक मतदेय स्थल न हो। इस संबंध में जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि इस समय पंचायत चुनाव को लेकर मतदान केंद्रो के सत्यापन का काम चल रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस